कांग्रेस सबसे बड़ी मुस्लिम विरोधी पार्टी, जीशान सिद्दीकी को पद से हटाए जानने पर हमलावर हुई BJP

नई दिल्‍ली । कांग्रेस मुसलमानों से नफरत (hate muslims)करती है। भारतीय जनता पार्टी ने अब महाराष्ट्र के नेता(leaders of maharashtra) जीशान सिद्दीकी के मुद्दे को लेकर कांग्रेस (taking Congress)पर सवाल उठाए हैं। दरअसल, यह बयान ऐसे समय पर आया जब दिग्गज नेता रहे बाबा सिद्दीकी के कांग्रेस छोड़ने के बाद उनके बेटे जीशान को भी पार्टी ने मुंबई युवा कांग्रेस अध्यक्ष के पद से हटा दिया। जीशान ने भी कांग्रेस पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं।

पहले कांग्रेस कहती थी कि उद्धव सेना ने दंगे कराए- भाजपा

मीडिया के अनुसार, भाजपा नेता शहजाद पूनावाला का कहना है, ‘आज जीशान सिद्दीकी ने कई बातें सामने रखी हैं, जो मैंने 6-7 साल पहले बताईं थीं कि कांग्रेस सबसे बड़ी मुस्लिम विरोधी पार्टी है। वोट बैंक और तुष्टिकरण के लिए भले ही कांग्रेस बताए कि मुस्लिमों के साथ है, लेकिन इसने ही अल्पसंख्यकों को सबसे ज्यादा चोट पहुंचाई है।’

उन्होंने आगे कहा, ‘महाराष्ट्र कांग्रेस के दिग्गज नेता रहे बाबा सिद्दीकी के पार्टी छोड़ने के बाद उनके बेटे जीशान को भी पार्टी ने मुंबई युवा कांग्रेस के पद से हटा दिया। आज जीशान सिद्धीकी खुद इसका सामना कर रहे हैं। हमने देखा कि कैसे कांग्रेस दंगे के दंगे होने दिे। कांग्रेस पार्टी कहती थी कि उद्धव सेना मुंबई दंगों के लिए जिम्मेदार है, लेकिन अब वह उनके ही साथ है क्योंकि कांग्रेस मुसलमानों से नफरत करती है।’

पूनावाला ने कहा, ‘कांग्रेस उन्हें सिर्फ वोट बैंक की तरह रखती है। कांग्रेस में परिवार के अलावा कोई भी फैसले नहीं ले सकता। आज जीशान जिसका सामना कर रहे हैं, कांग्रेस नेता लंबे समय से उसका सामना कर रहे हैं, क्योंकि राहुल गांधी ऐसी संस्कृति को बढ़ावा दे रहे हैं।’

जीशान के आरोप- खरगे को भी नहीं है काम करने की आजादी

जीशान के आरोप हैं कि कांग्रेस अध्यक्ष मल्लिकार्जुन खरगे भी ‘पूरी आजादी से अपनी जम्मेदारी नहीं निभा पाते हैं।’ उन्होंने कहा, ‘मल्लिकार्जुन खरगे बहुत वरिष्ठ नेता हैं, लेकिन उनके हाथ भी बंधे हुए हैं। राहुल गांधी अपना काम कर रहे हैं, लेकिन ऐसा लग रहा है कि उनके आसपास काम करने वालों ने कांग्रेस को खत्म करने के लिए दूसरे दलों से सुपारी ले रखी है।’

पिता ने छोड़ी पार्टी

जीशान के पिता बाबा सिद्दीकी महाराष्ट्र कांग्रेस के बड़े नेताओं में शुमार थे और राज्य सरकार में मंत्री भी रह चुके हैं। फरवरी में ही उन्होंने कांग्रेस को अलविदा कहा है। बाद में उन्होंने राज्य के उपमुख्यमंत्री अजित पवार की अगुवाई वाली राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी यानी NCP का दामन थामा था।

follow hindusthan samvad on :