इंदौर, 30 जुलाई।जीका वायरस संक्रमण से बचाव के लिए स्वास्थ्य विभाग द्वारा नागरिकों के लिए एडवायजरी जारी की गई है।

जीका वायरस संक्रमण एक मच्छर जनित वायरस संक्रमण है। यह मच्छरों की एडीज प्रजाति द्वारा फैलता है। आमतौर पर एडीज एजिप्टी और एडीज एल्बोपिक्टस इसके लिये जिम्मेदार होते हैं। एडीज मच्छर डेंगू और चिकनगुनिया के वायरस भी फैलाते हैं। यह जीका वायरस से संक्रमित व्यक्ति से सम्पर्क में आकर दूसरे लोगों में वायरस फैलाने में सक्षम होते हैं। यह गर्भवती महिलाओं पर गंभीर प्रभाव डालते हैं।
   स्वास्थ्य विभाग ने सलाह दी है कि जीका वायरस संक्रमण से बचने हेतु मच्छरों को बढ़ने से रोकने के लिए ठहरे पानी को इकठ्ठा न होने दें, मच्छरदानी का इस्तेमाल करें, शरीर का अधिकतम हिस्सा ढक्कर रखें, घर और आसपास साफ-सफाई का विशेष ध्यान रखें और बच्चों को पूरे आस्तीन कपड़े पहनायें। इसके अतिरिक्त बुखार, गले में खराश, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द, त्वचा में चकत्ते पड़ना, आंखों में जलन व आँखे लाल होना, उल्टी, हल्का बुखार एवं सिर दर्द जैसे लक्षण नजर आएं तो तुरंत डॉक्टर को दिखाने की सलाह दी गई है।

हिन्दुस्थान संवाद