15 मई तक हम सबकुछ बंद करें, कड़ाई से जनता कर्फ्यू का पालन हो-मुख्यमंत्री

भोपाल, 06 मई। किल कोरोना-2 अभियान को लेकर संबोधित कर रहे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि आज मैं आपसे आह्वान कर रहा हूं कि 15 मई तक हम सबकुछ बंद करें। कड़ाई से जनता कर्फ्यू का पालन हो। मैं चाहता हूं आने वाले दिनों में जनजीवन सामान्य हो जाये। इसलिये कुछ दिन हम कड़ाई कर लें।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कई लोगों की मानसिकता है कि इस बीमारी को छुपाते हैं, इसे न छुपायें। किल कोरोना अभियान की टीमें अब मरीजों को ढूंढकर वहीं के वहीं उनका इलाज करेंगी। उन्हें तत्काल दवाइयां मिलेंगी। किसी घर में 15 मई तक कोई संक्रमित छूट न जाये। एक एक व्यक्ति को ढूंढ़ कर निकालना है।
मुख्यमंत्री ने कहा कि गांवों की टीमें देखें कि होम आइसोलशन सही से हो। विधायक अपने अपने विधानसभा क्षेत्रों में जनता के साथ मिलकर काम करें। अलग अलग जिलों में जहां जहां भीड़ होती है उसके लिये उचित कार्रवाई की जाये। भीड़ कम की जाये।
गांव गांव में छोटी-छोटी टीम बन जाये जो विकेंद्रित तरीके से काम करें। हम भोपाल में बैठकर संक्रमण नहीं रोक सकते। इसलिये सभी का सहयोग अत्यंत आवश्यक है। जिन गांवों में पॉजिटिव केस हों वहां मनरेगा के काम भी बंद कर दिये जायें। हम अनाज देंगे जरूरतमंदों को।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं हर राजनीतिक पार्टी, सामाजिक संगठनों और स्वयंसेवियो से अनुरोध करता हूँ कि ये मिल के काम करने का समय है। राजनीतिक मतभेदों के लिये बहुत समय है। कभी भी लड़ लेंगे। लेकिन ये इस समय मानवता पर संकट है सभी को मिलकर काम करना होगा।
मुख्यमंत्री ने कहा कि विवाह, शादी अभी न करें। विवाह कोरोना संक्रमण के सुपर स्प्रेडर हैं। अलग-अलग जिले अपनी परिस्थितियों पर विचार कर भीड़ को कम करने का प्रयास करें। मई में शादियां न हों ये फैसला लिया जाये ताकि संक्रमण से बचा जा सके।

मुख्यमंत्री ने कहा कि 21 अप्रैल तक मध्यप्रदेश देश में संक्रमित राज्यों के मामले 7वें नंबर पर था। आज आपके ही सहयोग से हम 14वें नंबर पर आ गये हैं। पॉजिटिविटी रेट 25 प्रतिशत तक पहुंच गई थी अब 18 प्रतिशत के करीब आ गई है। रिकवरी अगर देखें तो ये 85.13 प्रतिशत हो गई है।


मुख्यमंत्री ने कहा कि मैं सभी का सहयोग चाहता हूं। आप सभी जानते हैं कि कोरोना के खिलाफ हमारा देश, प्रदेश, पूरी दुनिया युद्ध लड़ रही है। मैं आभारी हूं जनता का, जन प्रतिनिधियों का, स्वयंसेवी, सामजसेवी संगठनों का जिन्होंने इस युद्ध में सरकार का भरपूर सहयोग दिया है।

हिन्दुस्थान संवाद

follow hindusthan samvad on :