सिवनी, 27 अगस्त। जिला मुख्यालय से नागपुर जाने वाले मार्ग पर स्थित ग्राम खवासा पर मंगलवार 24 अगस्त की देर रात्रि दक्षिण सामान्य वनमंडल की टीम, एसटीएफ व वन्य जीव अपराध नियत्रण ब्यूरो की संयुक्त टीम ने कार्यवाही कर ग्राम सीतापार (महाराष्ट्र) निवासी बालचंद पुत्र हिरेसी बरकडे व्यक्ति के कब्जे से टाइगर की हडडीयों एवं हिरन की सींग को जब्त किया था इस प्रकरण में वन विभाग ने अब तक चार आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।
दक्षिण सामान्य वनमंडल के उपवनमंडलाधिकारी कुरई एस.के. जौधरी ने बताया कि मंगलवार 24 अगस्त की देर शाम को मुखबिर की सूचना पर एसटीएफ, वन्य जीव अपराध नियंत्रण ब्यूरों व दक्षिण सामान्य वनमंडल के उपवनमंडल की संयुक्त टीम ने ग्राम खवासा के टुरिया तिराहा पर दबिश देकर ग्राम सीतापार (महाराष्ट्र) निवासी बालचंद पुत्र हिरेसी बरकडे के कब्जे से बाघ की हड्डियां एवं चीतल के सींग जब्त किये थे। जिसे हिरासत में लेकर पूछताछ उपरांत बुधवार को जेल भेज दिया गया था। आरोपित बालंचद ने पूछताछ में उसके सहयोगी अन्य दो व्यक्तियों क्रमशः रोशन वल्द नंदलाल उइके, नरवद पुत्र पुनू कोडवते दोनो निवासी ग्राम पिनकापार (महाराष्ट्र) के बारे में बताया जिन्हें भी संयुक्त टीम द्वारा महाराष्ट्र जाकर उनके घर में दबिश देकर पकडा गया इस दौरान संयुक्त टीम को आरोपितों के घर से सुअर की हड्डियां , दो बंदूकें एवं हिरन के सींग बरामद हुए। जिन्हें पूछताछ के उपरांत जिला न्यायालय में गुरूवार को पेश किया गया जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया था।
आगे बताया गया कि दोनो आरोपितों ने पूछताछ में कैलाश भलावी निवासी पनैरा (महाराष्ट्र) का नाम बताया था जिसे भी संयुक्त टीम ने गुरूवार को दबिश देकर गिरफ्तार किया जिसके घर से टाइगर की एक हड्डी बरामद हुई है। शुक्रवार को आरोपित कैलाश को न्यायालय के समक्ष पेश किया गया जहां उसे जेल भेज दिया गया है।
बताया कि इस घटनाक्रम में अब तक चार आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। और भी आरोपियों के नाम सामने आ सकते है। फिलहाल संयुक्त अमला अभी इस घटनाक्रम से जुडे सभी तत्थों की जांच कर रही है।
हिन्दुस्थान संवाद