सिवनी, 25 अप्रैल। मध्यप्रदेश के सिवनी जिले के पेंच नेशनल पार्क के घाटकोहका बफर परिक्षेत्र की बीट टिकाडी अंतर्गत शुक्रवार की दोपहर को एक नर बाघ का शव मिला है। इस प्रकरण में पेच प्रबंधन में दो आरोपितों को गिरफ्तार कर माननीय न्यायालय के समक्ष रविवार को पेश किया है जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया है वहीं एक अन्य आरोपित की तलाश पेंच प्रबंधन कर रहा है।


उपसंचालक पेंच टाईगर रिजर्व एम.बी.सिरसैया ने जानकारी दी कि शुक्रवार 23 अप्रैल को पेंच टाइगर रिजर्व सिवनी अंतर्गत घाटकोहका बफर परिक्षेत्र में बीट टिकाडी के कक्ष क्रमांक 378 में गस्ती दल को गस्ती के दौरान एक नर बाघ मृत अवस्था मे मिला, जिसकी सूचना तत्काल वरिष्ठ अधिकारियों को दी गई। सूचना प्राप्त होने पर मुख्य वन संरक्षक एवम क्षेत्र संचालक पेंच टाइगर रिजर्व विक्रम सिंह परिहार, अधीक्षक आशीष कुमार पांडेय, वन्य प्राणी चिकित्सक डाॅ. अखिलेश मिश्रा , परिक्षेत्र अधिकारी विवेक नाग सहित स्टाफ मौके पर पहुंचा। एन.टी.सी.ए. प्रतिनिधि के रूप में एस. के. जौहरी उपवनमण्डल अधिकारी कुरई सामान्य भी मौके पर पहुंचे।


आगे बताया गया कि वन्य प्राणी चिकित्सक द्वारा शव परीक्षण करने पर मृत बाघ के गले मे जी आई तार लिपटा हुआ मिला इससे बाघ को तार, फंदा लगाकर मारा जाना प्राथमिक दृष्टि में प्रतीत होता है। बाघ के शरीर के समस्त अव्यव जैसे बाल, नाखून, दांत आदि सुरक्षित अवस्था मे मिले हैं। वन्यप्राणी चिकित्सक द्वारा शव परीक्षण उपरांत एन.टी.सी.ए. की समस्त एस.ओ.पी. का पालन करते हुए अधिकारियों की उपस्थिति में मृत बाघ का शव दाह किया गया। डॉग स्क्वाड की सहायता से पूरे क्षेत्र की जांच करवाई गई है, साथ ही अमला अपराधियो की तलाश कर रहा हैं।


विभागीय सूत्रों के अनुसार पेंच प्रबंधन को मुखबिर की सूचना मिलने पर ग्राम टिकाडी रैयत निवासी मेनसिंह(40)पुत्र मेहतर आहाके , अमरलाल (45)तांतू उइके को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई जहां दोनों आरोपितो ंने अपराध करना स्वीकार किया है। जिस पर पेंच प्रबंधन ने वन्यप्राणी संरक्षण अधिनियम के विभिन्न प्रावधानों के तहत मामला पंजीबद्ध करते हुए दोनों आरोपितों को रविवार को माननीय न्यायालय के समक्ष पेश किया जंहा से उन्हें जेल भेज दिया गया है वहीं इस अपराध में अन्य एक आरोपित की तलाश पेंच प्रबंधन कर रहा है।
हिन्दुस्थान संवाद

error: Content is protected !!