भोपाल, 02 मई। ‘योग से निरोग’ आज का आसन- पादहस्तासन पादहस्तासन का अर्थ है पाद अर्थात् पैर, हस्त अर्थात् हाथ। इस आसन के अभ्यास में हथेलियों को पैरों की तरफ नीचे ले जाया जाता है। इस आसन के अभ्यास को उत्तानासन भी कहा जाता है। प्रतिदिन योग करें और निरोग रहें।

Image

हिन्दुस्थान संवाद

error: Content is protected !!