सिवनी, 16 अप्रैल। जिले के जिला कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राजकुमार खुराना ने शुक्रवार को जारी बयान में सिवनी पुलिस अधीक्षक कुमार प्रतीक से निवेदन किया है कि कांग्रेस प्रवक्ता राजिक अकील द्वारा की गई टिप्पणी जिले की स्वास्थ्य व्यवस्थाओं पर को लेकर की गई थी जिले की चरमराती स्वास्थ्य सुविधाओं से जुड़ी कोई सही और सत्य जानकारी सामने लाना कैसे अपराध हो सकता है। राजिक अकील पर दर्ज मामला वापस लिया जायें। वही जिलाध्यक्ष ने प्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चैहान के अधिकारिक पेज पर पुलिस अधीक्षक को किये गये निवेदन पत्र की छायाप्रति टिविट की है।

जिला कांग्रेस कमेटी सिवनी के अध्यक्ष राजकुमार खुराना ने शुक्रवार की शाम को जारी बयान में सिवनी पुलिस अधीक्षक कुमार प्रतीक से निवेदन किया है कि अभी-अभी मुझे इस बात की जानकारी मिली कि सिवनी कोतवाली में जिला कांग्रेस कमेटी के महामंत्री और प्रवक्ता राजिक अकील के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है, राजिक अकील की ओर से मुख्यमंत्री के उस बयान पर टिप्पणी की गई थी जो 14 अप्रैल 2021 को दोपहर 03.11 पी.एम. पर आधिकारिक टिविटर अकाउंट पर पोस्ट किया गया था, इस बयान में मुख्यमंत्री ने सिवनी में ऑक्सिजन प्लांट शुरू होने और उससे ऑक्सिजन मिलना शुरू होने की बात कही थी जबकि हकीकत ये है कि सिवनी में ऑक्सिजन प्लांट 14 अप्रैल की तारीख को ना तो शुरू हुआ था और ना ही उससे एक लीटर ऑक्सिजन भी मिलनी शुरू हुई और यही बात राजिक अकील ने अपनी टिप्पणी में कही थी और इस बात को सिवनी के पत्रकारों ने भी सोशल मीडिया में उठाया था। 


आगे बताया कि जिला अस्पताल में ऑक्सिजन प्लांट 15 अप्रैल से शुरू हुआ, ऐसे में राजिक अकील की टिप्पणी कहां से गलत हो सकती है, जिले की चरमराती स्वास्थ्य सुविधाओं से जुड़ी कोई सही और सत्य जानकारी सामने लाना कैसे अपराध हो सकता है। ऐसा मालूम होता है कि सत्ताधारी पार्टी के दबाव में विपक्षी पार्टी के नेता को प्रताड़ित करने के लिए ये कार्यवाही की गई है जो पूरी तरह गलत है। और पुलिस अधीक्षक से निवेदन किया है क़ि राजिक अकील पर दर्ज किया गया मुकदमा वापिस लिया जाये।
हिन्दुस्थान संवाद