सिवनी, 13 जनवरी। जिले के पेंच टाइगर रिजर्व सिवनी के रूखड़ (बफर) परिक्षेत्र में अनुभूति कार्यक्रम के तहत गुरूवार को स्कूली 108 छात्र-छात्राओं ने पक्षीदर्शन कर नेचर ट्रेनर पर भ्रमण किया है।


उपसंचालक पेंच टाईगर रिजर्व अधर गुप्ता ने गुरूवार की शाम को जानकारी दी कि मध्यप्रदेश राज्य ईको पर्यटन विकास बोर्ड द्वारा पूरे मध्यप्रदेश में स्कूली विद्यार्थियों को वन एवं वन्यप्राणी और पर्यावरण के प्रति जागरूक करने और उन्हे इनके संरक्षण में सम्मिलित करने के उद्देश्य से अनुभूति शिविर का आयोजन किया जा रहा है।
इसी क्रम में गुरूवार को परिक्षेत्र रूखड बफर के वन विश्राम गृह रूखड़ में अनुभूति शिविर का आयोजन किया गया। जिसमें शासकीय कन्या उच्चतर विद्यालय कुरई की 33 छात्रा, शासकीय माध्यमिक विद्यालय कुरई के 22 छात्र-छात्रा और शासकीय उत्कृष्ठ विद्यालय कुरई के 53 छात्र-छात्रा कुल 108 छात्र-छात्राओं एवं कुल 09 शिक्षक-शिक्षिकाओं ने हिस्सा लिया।
इस दौरान सेवानिवृत्त सहायक वन संरक्षक एवं मास्टर ट्रेनर आर.बी.सिंह व महेन्द्र राहंगडाले ने छात्र-छात्राओं को वन वन्यप्राणी एवं पर्यावरण के विषय में मनोरंजक तरीके से जानकारी दी। पार्क प्रबंधन द्वारा छात्र-छात्राओं को नेचर ट्रेनर पर भ्रमण कराया गया एवं पक्षी दर्शन कराया एवं वन्यप्राणियों के संबंध में जानकारी दी गई। इसी दौरान राष्ट्रीय राजमार्ग 44 पर वन्यप्राणियों के आवागमन एवं संरक्षण हेतु बनाये गये अण्डरपास के महत्व एवं उपयोगिता के बारे में जानकारी दी उपरांत दुधिया नर्सरी में पौधे तैयार करने एवं वर्मी कम्पोस्ड तैयार करने के विषय में बताया गया।
आगे बताया गया कि अनुभूति शिविर में छात्र-छात्राओं के लिए प्रतियोगिता आयोजित कर पुरूस्कार वितरण किया गया। कार्यक्रम के अंत में प्रत्येक छात्र-छात्राओं एवं शिक्षक-शिक्षिकाओं को एक-एक पौधा उपहार स्वरूप दिया गया ताकि इस पौधे को घर आंगन में लगाकर उसे बडा वृक्ष बनाने एवं पर्यावरण के प्रति हमेशा संवेदनशील रहने और पर्यावरण संरक्षण के संबंध में शपथ दिलाई गई।
इस दौरान अशोक कुमार मिश्रा क्षेत्र संचालक, अधीक्षक पेंच मोंगली अभ्यारण्य, आशीष पाण्डेय , वन परिक्षेत्र अधिकारी रूखड़ (बफर) विलास डोंगरे एवं समस्त स्टाफ उपस्थित रहा।
हिन्दुस्थान संवाद

error: Content is protected !!