सिवनी 18 नवंबर। जिले में कलेक्टर डॉ राहुल हरिदास फटिंग ने गुरूवार को शासकीय हाईस्कूल,हायर सेकेण्डरी विदयालयों के प्राचार्यों की बोर्ड परीक्षा परिणाम वृद्धि के संबंध में ऑनलाईन बैठक लेते हुए कम परीक्षा परिणाम वाले विद्यालयों के प्राचार्यों से परीक्षा परिणाम वृद्धि हेतु बनाई गयी रणनीति पूछी साथ ही कम परीक्षा परिणाम वाले विदयालयों के प्राचार्यों पर नाराजगी व्यक्त करते हुए परीक्षा परिणाम वृद्धि हेतु निर्देशित किया।

उन्होंने सभी प्राचार्यों को कक्षा 10वीं एवं 12वीं के विदयार्थियों के अच्छे परीक्षा परिणाम हेतु शिक्षकों के साथ बैठकर विषयवार लक्ष्य निर्धारित करने की बात कही। प्राचार्यों को तिमाही,अर्धवार्षिक परीक्षा के आधार पर कमजोर विदयार्थियों (डी एवं ई ग्रेड) का चिन्हांकन कर चिन्हित कमजोर विदयार्थियों को अधिक ध्यान देने एवं रेमेडियल कक्षाओं का संचालन करने के निर्देश दिए। और कम परीक्षा परिणाम आने पर प्राचार्य का उत्तरदायित्व निर्धारित करने तथा सक्षम अधिकारी से बिना पूर्व अनुमति के अनुपस्थिति की स्थिति में अनुशासनात्मक कार्यवाही किए जाने की बात कही।
उन्होनें विगत 03 वर्षों के कक्षा दसवीं के परीक्षा परिणाम के विश्लेषण उपरांत पाया कि 43 विदयालय ऐसे हैं जिनका परीक्षा परिणाम निरंतर खराब आ रहा है। उन विदयालयों के प्राचार्यों की पृथक बैठक लिए जाने तथा इन विदयालयों के विशेष मॉनिटरिंग हेतु निर्देश दिए तथा सभी शिक्षकों की शाला में निर्धारित समय पर नियमित उपस्थिति एवं परीक्षाओं का समय नजदीक होने के कारण शिक्षकों को लंबे अवकाश की अनुमति न देने की बात कही।
कलेक्टर डॉ फटिंग ने ऑनलाईन बैठक में अनुपस्थित शासकीय उत्कृष्ट विदयालय लखनादौन एवं शासकीय उमावि कौडियामाल के प्राचार्यों का वेतन काटने एवं कारण बताओ सूचना पत्र जारी करने हेतु निर्देशित किया।
बैठक में जिला शिक्षा अधिकारी रवि सिंह बघेल, परियोजना समन्वयक जिला शिक्षा केन्द्र जी.एस.बघेल, सतेन्द्र मरकाम सहायक आयुक्त आदिवासी विकास विभाग एवं जिले के समस्त शासकीय हाईस्कूल, हायर सेकेण्डरी के विदयालयों के प्राचार्य उपस्थित रहे।
हिन्दुस्थान संवाद

error: Content is protected !!