सिवनी, 08 जून। जिले के दक्षिण सामान्य वनमंडल के परिक्षेत्र खवासा सामान्य के बीट पिंडरई अंतर्गत वन्यप्राणी मादा नीलगाय का करेंट लगाकर शिकार करने वाले 03 व्यक्तियों को वन विभाग के अमले ने गिरफ्तार कर मंगलवार को माननीय न्यायालय के समक्ष पेश किया है जहां से उन्हें जेल भेज दिया गया है।


वन परिक्षेत्र अधिकारी खवासा सामान्य घनश्याम दास चतुर्वेदी ने मंगलवार की शाम को जानकारी दी कि मुखबिर की सूचना पर परिक्षेत्र अंतर्गत आने वाले बीट पिंडरई के वनकक्ष क्रमांक पी.एफ.355 से लगे ग्राम पिंडरई में सोमवार को किरण पुत्र गुलाव धुर्वे के घर दबिश दी गई जहां पर घर में रखे फ्रिज में मादा नीलगाय का कच्चा मांस 10 किलोग्राम बरामद किया गया है। किरण धुर्वे ने वन विभाग को पूछताछ में बताया कि रविवार 06 जून की रात्रि में ग्राम पिडंरई निवासी धारासिंह पुत्र भैयालाल बरकडे और रमेश पुत्र सूजन काकोडे के साथ मिलकर उसने जंगल में करेंट लगाकर नीलगाय का शिकार किया और उसका मांस सब्जी बनाने के लिए फ्रिज में रखा और अन्य अवशेष को वनक्षेत्र के पास नाले में दबा दिया है।


आगे बताया गया कि आरोपित द्वारा बताये गये वनक्षेत्र से मृत नीलगाय के अवशेष रेत में गड़े हुऐ एवं मौके पर करेंट लगाने में उपयोग की गई बांस की खूंटिया जब्त की गई है। और अन्य सहयोगी धारासिंह एवं रमेश को हिरासत में लेकर पूछताछ की गई जहां दोनो आरोपितों ने किरण के साथ नीलगाय को करेंट लगाकर शिकार करना स्वीकार किया। और नीलगाय का शिकार करने व काटने में उपयोग की सामग्री जी.आई.तार. बांस की खूटियां , कुल्हाडी, पावसी, चाकू धारा बरकडे के खेत से बरामद की गई है। जिस पर वन विभाग ने तीनों आरोपितों के क्रमशः किरण (29) पुत्र गुलाब धुर्वे , धारासिंह (54) पुत्र भैयालाल वरकडे, रमेश(52) पुत्र सुजन काकोडे तीनो निवासी ग्राम पिडरई के विरूद्ध वन्यप्राणी संरक्षण अधिनियम 1972 की धारा 2(16).9.39 सहपठित 51, 52 के तहत अपराध पंजीबद्ध कर मंगलवार को जिला न्यायालय सिवनी के समक्ष पेश किया है। जहां से जिला न्यायालय के आदेश उपरांत तीनो आरोपितों को जेल भेज दिया गया है।


हिन्दुस्थान संवाद