सिवनी, 22 सितम्बर। परिवार कल्याण कार्यक्रम एक अत्यंत महत्वपूर्ण कार्यक्रम है जिसके अंतर्गत अस्थाई साधनों की आपूर्ति सुनिश्चित करने के लिए एफ.पी.एल.एम.आई.एस. सॉफ्टवेयर का संचालन शासन द्वारा वर्ष 2017 से किया जा रहा है। इसके माध्यम से परिवार नियोजन के साधनो की मांग व वितरण में पारदर्शिता एवं राज्य स्तर से आशा स्तर तक निगरानी की जाती है। जिसके अंतर्गत बुधवार कोे जिला चिकित्सालय परिसर में एफ.पी.एल.एम.आई.एस. की समीक्षा एवं रिफ्रेशन प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन किया गया। उक्ताशय की जानकारी मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. राजेश श्रीवास्तव ने बुधवार की शाम को दी।


उन्होनें बताया कि आयोजित कार्यक्रम में राज्य स्तरीय एफ.पी.एल.एम.आई.एस. के समन्वयक सुधीश कुमार द्वारा जिले एवं विकासखंड से आए हुए समस्त बीसीएम व भंडार प्रभारियों को एफ.पी.एल.एम.आई.एस. सॉफ्टवेयर के बारे में प्रशिक्षण तथा विस्तृत जानकारी दी गई। जिससे परिवार कल्याण कार्यक्रम के अंतर्गत अस्थाई साधनो की उपलब्धता जिला से लेकर ग्राम स्तर तक हो सके एवं हितग्राहियों को उनकी आवश्यकतानुसार साधन ग्राम स्तर पर आसानी से उपलब्ध हो सके । जिससे जिले की कुल प्रजनन दर को कम किया जा सकें।
बताया कि प्रशिक्षण में जिला स्वास्थ्य अधिकारी-2 डॉ. आर.के धुर्वे, उपजिला विस्तार एवं माध्यम अधिकारी शांति डहरवाल, राज्य एफ.पी.एल.एम.आई.एस. कंसल्टेंट सुधीश कुमार, जिला कम्यूनिटी मोबिलाईजर संदीप श्रीवास तथा जिले के समस्त बीसीएम व भंडार प्रभारी उपस्थित रहें।
हिन्दुस्थान संवाद