सीताफल क्रेता-विक्रेता सम्मेलन संपन्न

सिवनी, 29 सितम्बर। जिले के छपारा विकासखंड अंतर्गत आने वाले ग्राम भूतबंधानी सीताफल क्लस्टर (खैरमटाकोल) में बुधवार को सीताफल उत्पादकों को उनके उत्पाद का उचित मूल्य दिलाए जाने हेतु उत्पादकों एवं खरीददारों, प्रोसेसिंग यूनिट स्थापित करने वाले उद्यमियों के मध्य सवांद स्थापित के उद्देश्य से सीताफल क्रेता-विक्रेता सम्मेलन (बायर-सेलर मीट) का आयोजन किया गया।


उद्यान विभाग के सहायक संचालक डॉ. आशा उपवंशी ने बुधवार को जानकारी दी कि जिले में प्राकृतिक रूप से सीताफल उत्पादित होने के कारण देश के कई बड़े शहरों में इसकी अच्छी माँग हैं। वर्तमान में सिवनी जिले में प्रतिदिन 100 टन से अधिक मात्रा में सीताफल का उत्पादन हो रहा है। बुधवार को छपारा विकासखंड के ग्राम भूतबंधानी में उद्यानिकी विभाग द्वारा सीताफल क्रेता-विक्रेता सम्मेलन आयोजित किया गया जिसमें दिल्ली, कलकत्ता, महाराष्ट्र, हैदराबाद एवं मध्यप्रदेश के अन्य जिलों से आए खरीददारों, उद्यमियों ने उत्पादकों से सीधी चर्चा कर अपनी जानकारी साझा की एवं खरीदी-बिक्री के विषय में अपने-अपने ऑफर एक दूसरे के समक्ष रखे।


इस दौरान विभाग ने सीताफल उत्पादकों को एफपीओ के माध्यम से सही ग्रेडिंग एवं पैकिंग करके सीताफल विक्रय करने एवं स्थानीय स्तर पर सीताफल आधारित प्रसंस्करण इकाई लगाने हेतु समझाईश दी गई।
आयोजित हुए सम्मेलन में उपस्थित कृषको को जबलपुर संभाग से आए संयुक्त संचालक उद्यानिकी एवं संयुक्त संचालक एवं उद्यानिकी विभाग के अधिकारियों द्वारा किसानों से विस्तृत चर्चा कर सीताफल के एफपीओ गठन के विषय में महत्वपूर्ण जानकारी एवं सीताफल पौध रोपण व उनके प्रबंधन, प्रधानमंत्री सूक्ष्म उद्यम उन्नयन योजना अंतर्गत सीताफल आधारित प्रसंस्करण इकाई की स्थापना की जानकारी के साथ ही विभाग की अन्य योजनाओं की जानकारी भी दी गयी।


इस दौरान स्थानीय जनप्रतिनिधि, जिला पंचायत सदस्य रंगलाल धुर्वे ,सीताराम सरवती सरपंच खैरनरा, लालचंद धुर्वे एवं क्रेता-विक्रेता के साथ ही सहायक संचालक उद्यान सिवनी, उद्यानिकी विभाग के समस्त विकासखंडों के अधिकारी उपस्थित रहे।


हिन्दुस्थान संवाद