सिवनी, 13 सितम्बर। जिले में आगामी 15 सिंतबर से डेंगू से बचाव एवं नियंत्रण के उपायों की जानकारी जन-जन तक पहुंचाने हेतु विशेष जागरूकता अभियान चलाया जाएगा तथा डेंगू निरोधक गतिविधियां संचालित की जायेगी। यह बात मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. राजेश श्रीवास्तव ने सोमवार की देर शाम को कही है।


उन्होनें बताया कि वर्तमान में प्रदेश में कतिपय जिलों में डेंगू के प्रकरणों में वृद्धि देखने में आई है, जिसको ध्यान रखते राज्य शासन द्वारा समस्त जिलों में 15 सितम्बर 21 से डेंगू नियंत्रण हेतु डेंगू पर प्रहार जनअभियान प्रारंभ किया जायेगा।
वर्तमान समय में वर्षा ऋतु प्रारंभ होने के उपरांत वेक्टर जनित रोग जैसे मलेरिया, डेंगू एवं चिकनगुनिया इत्यादि का संक्रमण काल प्रारंभ हो चुका है।

डॉ. श्रीवास्तव ने कहा कि शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों में वाहक मच्छरों की वृद्धि के स्त्रोत में कमी लाने हेतु सांवधानियां बरतना अत्यंत आवश्यक है जैसे 7 दिनों से अधिक समय तक किसी भी स्थान पर जलजमाव न होने दे । (कूलर, टंकी, गमले, फूलदान, पुराने टायर, बेकार डब्बे, सकोरे, खाली प्लॉट, गड्डों इत्यादि की सफाई करें), टूटे बर्तन, मटके, कुल्हड़, गमले, बिना ढके बर्तन, बेकार जूते, नारियल खोल, डिस्पोजल कप नष्ट करे या उनमें पानी जमा न होने दे, घर की खिड़की एवं दरवाजो पर मच्छर रोधी जाली लगाएं, फुल बांह के कपड़े पहने तथा सोते समय मच्छरदानी का नियमित उपयोग करे।

उन्होनें कहा कि वेक्टर जनित रोगो का बचाव एवं नियंत्रण आमजन के सहयोग से आसानी से किया जा सकता है। वर्षाकाल के प्रारंभ होते ही अनेक स्थानों पर जल जमाव होने के कारण घरो में छोटे कंटेनर, टंकियों इत्यादि में एक सप्ताह से अधिक जल संग्रह करने की प्रवृत्ति के कारण डेंगू एवं चिकनगुनिया जैसे रोग फैलाने वाले एडीज मच्छर का प्रजनन शुरू हो जाता है तथा नियमित साफ सफाई न होने के कारण इन मच्छरों के लार्वा उत्पत्ति का स्त्रोत बन जाते है, जिस से माह अगस्त से अक्टूबर तक इन बीमारियों का प्रकोप अत्याधिक रहता है।

हिन्दुस्थान संवाद