Seoni: पुरानी रंजिश के चलते फर्जी शिकायत की, कृषि विभाग ने शिकायत को पाया झूठी-नरेन्द्र ठाकुर

सिवनी, 14 दिसंबर। जिले के ग्राम गोपालगंज के नजदीक ग्राम सिघोडी जंगलटोला स्थित खेत में बीते दिन कृषि विभाग द्वारा 600 बैग डीएपी उर्वरक भण्डारित पाये की सूचना पर कृषि विभाग के निरीक्षण दल ने जांच की और पाया कि वहां खेत में उपयोग हेतु दयोदय ऊर्जा एवं जैविक खाद प्रायवेट लिमिटेड भोपाल कम्पनी की लगभग 70 से 80 बैंग जैविक खाद भण्डारित है। व खेती का रकबा 26 एकड है। इस प्रकार निरीक्षण दल को प्राप्त 600 बैग डीएपी उर्वरक भण्डारित होने की खबर झूठी पाई गई। इस प्रकार की फर्जी शिकायत ठेकेदार अवैध शराब संजय भारद्वाज के भतीजे निशांत भारद्वाज ने की है। जो कि मुझसे पुरानी रंजिश रखता है। यह बात सिवनी भाजपा के पूर्व जिला उपाध्यक्ष एवं पूर्व नगर अध्यक्ष तथा एडवोकेट नरेन्द्र ठाकुर ने बुधवार की शाम को जारी बयान में कही है।


नरेन्द्र ठाकुर ने कहा कि मेरे द्वारा गोपालगंज के ग्राम सिंगोली में खेती की जाती है कृषि कार्य हेतु मेरे द्वारा एक और किसान जो मेरे यहां अधियार का कार्य करता है हम दोनों ने मिलकर 100 बोरी ऑर्गेनिक खाद ₹85500 की जीएसटी सहित हेमांगी इंटरप्राइजेज नागपुर से खरीदी गई 12 दिसंबर 22 को बोनी का कार्य किया जा रहा था। इस दौरान अवैध शराब ठेकेदार संजय भारद्वाज का भतीजा निशांत भारद्वाज चोरी-छिपे खेत पहुंचा और ऑर्गेनिक खाद देखकर सिवनी आया और कृषि विभाग के अधिकारियों को गुमराह कर गोपालगंज के सिंघोड़ी ग्राम के एक खेत में 600 बोरी खाद रखी है की फर्जी शिकायत कर कुछ अधिकारियों को घटनास्थल पर स्वयं लेकर पहुंचा जहां अधिकारियों द्वारा ऑर्गेनिक खाद की 60 से 65 बोरी पाई बाकी 35 से 40 बोरी का उपयोग की जा चुकी थी उनके द्वारा खेती की बुआई करते देखा और हमारे द्वारा उन्हें बिल प्रस्तुत किया गया जिसे देखकर वापस आ गए। किसान ऑर्गेनिक खाद अपनी आवश्यकता के अनुसार जितनी चाहे उतनी मार्केट से खरीद सकता है।

नरेन्द्र ठाकुर ने कांग्रेस प्रवक्ता राजिक अकील एवं संजय भारद्वाज पर आरोप लगाते हुए कहा कि इन सब मामले के साक्ष्य उनके पास सुरक्षित है उन्ही साक्ष्यों के आधार पर वह इन पर आरोप लगा रहे है। उन्होनें आरोप लगाते हुए कहा कि अवैध शराब ठेकेदार संजय भारद्वाज का भतीजा निशांत भारद्वाज मुझसे पुरानी रंजिश रखता है। इनके परिवार के सात-आठ लोग अवैध शराब के काम में उतरे और शासकीय शराब दुकानों की आड़ लेकर अवैध शराब का धंधा करते-करते आज करोड़पति बन कर दूसरे लोगों पर कीचड़ उछालने का काम करने लगे।
नरेन्द्र ठाकुर ने कहा कि इनके अवैध कार्यो की जानकारी प्रशासन को मालूम है। जिनसे दो पहिया एवं चार पहिया वाहन राजसात भी हुये है। वर्ष 2012-13 में पूरे भारत में पीएसीएल कंपनी के द्वारा कुछ लोगों ने जमीन खरीदी थी जिसे माननीय सुप्रीम कोर्ट की लोढ़ा कमेटी ने कुछ जमीनों को जो नियम विरुद्ध खरीदी गई थी उन पर जिला कलेक्टर को यथास्थिति बनाने या संबंधों को रजिस्ट्री शुन्य करने की आदेश भी जारी किए थे उन्हें विवादित जमीनों को संजय भारद्वाज ने करीब 100 एकड़ जमीन अपने परिवार के लड़कों के नाम और ओने पौने दाम में फर्जी तरीके से खरीद कर अपने परिवार के नाम कर लिया जबकि माननीय सुप्रीम कोर्ट के अनुसार उक्त भूमि की खरीदी बिक्री पर पूर्ण रूप से रोक लगी हुई है।
वर्ष 2016-17 में जिला आबकारी सिवनी ने एक बाहर की चार पहिया वाहन में लगभग 40 पेटी अवैध शराब परिवहन करते पकड़ा था और पकड़ी गई शराब का जिले की दुकानों में मिलान किया गया था जो उक्त शराब अरी गगेरुआ दुकान को आवंटित की गई थी उस मामले में संबंधित शराब दुकान ठेकेदार को आरोपी नहीं बना पाए अब तो शायद मामला पूरी तरह से बंद भी हो गया होगा
वर्ष 2018-19 के दौरान एक सफेद रंग की बुलेरो गाड़ी में अवैध शराब को सिवनी जिले के ग्राम रनवेली थाना बंडोल की मातृशक्तियों के द्वारा पकड़ा गया जिसका केश भी आबकारी विभाग ने बनाया और उस केस में जो गाड़ी पकड़ी गई थी वो संजय भारद्वाज के छोटे भाई अजय भारद्वाज के नाम पर थी । उक्त प्रकरण में बुलेरो वाहन का फर्जी किरायानामा बनवाकर अपने भाई को बचाया बाद में उक्त वाहन राजसात होकर नीलाम भी किया गया ।
ठाकुर ने आरोप लगाते हुए कहा कि शराब माफियाओं की फजीहत तो कोरोना महामारी के समय वर्ष 2020 में शुरू हुई जब जिले के एक ईमानदार पुलिस कप्तान कुमार प्रतीक ने सरदार संजय भारद्वाज को अवैध शराब बिक्री वो भी लॉक डाउन के दौरान करने पर आरोपी बनाया। जिसका प्रकरण भी न्यायालय में विचाराधीन है । जमानत कराने के बाद संजय भारद्वाज ने न्यायालय से एक शपथ पत्र खुद का एवं अपने परिवार के अन्य सदस्य जो शराब ठेके में शामिल थे सभी के नाम का शपथ पत्र जिसमे शराब का व्यवसाय बंद करने का लेख है जिसे सभी थाना पुलिस अधीक्षक और आबकारी विभाग में दिया है ।
इसी वर्ष पंचायत चुनाव के दौरान राजा उर्फ रुपेश भारद्वाज के ग्राम मारबोड़ी स्थित फार्म हाऊस में भी 22 जून को भारी मात्रा में अवैध शराब पकड़ाई थी जिसमे फार्म हाउस का चौकीदार और मालिक दोनों अवैध शराब के आरोपी बने थे जो प्रकरण न्यायालय में चल रहा है ।
नरेन्द्र ठाकुर ने कहा कि अभी भी उक्त परिवार के पांच सदस्य अवैध शराब का व्यवसाय कर रहे हैं । इन्होंने प्रशासन को गुमराह करने के लिये झूठा शपथ पत्र दिये हैं । जबकि इनके परिवार का एक सदस्य ग्राम गोपालगंज की शराब दुकान का गद्दीदार भी है। वर्तमान में उक्त शराब माफिया ग्राम बादलपार गोपालगंज और कोहका की शराब दुकानों से नागपुर और छिन्दवाड़ा को तस्करी कराने में लगा है ।

काग्रेस के जिला उपाध्यक्ष संजय भारद्वाज के भतीजे निशांत भारद्वाज के द्वारा काग्रेस के प्रवक्ता राजिक अकील के साथ मिलकर पुरानी रंजिश के चलते खाद्य के बहाने मुझे बदनाम करने की साजिश रची गई जिसमें वहा कामयाब नहीं हो सके जबकि काग्रेस प्रवक्ता राजिक अकील के भाई शकील खान कबाड़ी को वक्फ बोर्ड की संपति पर कब्जा कर अवैद्य निर्माण किया जा रहा है जिसका मामला तहसीलदार न्यायालय में विचाराधीन है वक्फ बोर्ड कमेटी के सचिव मोहसीन अली के द्वारा अवैद्य अतिक्रमण हटाने की कार्यवाही की जा रही है। वैसे राजिक अकील और मैं एक दूसरे को लंबे अरसे से जानते पहचानते हैं । आज से एक सप्ताह पहले राजिक अकील ने कहा कि खेत में अगर खाद की खाली बोरी हों तो पांच सात बोरी देना । मैने पूँछा क्या करोगे तो उन्होंने बताया कि मध्यप्रदेश सरकार एक रुपये किलो गेंहू और चावल बांट रही है तो हमारे मोहल्ले की राशन दुकान से उक्त गल्ला लाने के लिए बोरी की जरूरत पड़ती है । अब इसी बात से अंदाज लगा सकते हैं कि एक कांग्रेसी नेता नगरपालिका से डीजल भरा रहा है और दूसरा नेता सरकारी राशन दुकान से सब्सिडी का गल्ला ला रहा है । कहीं ये नेता एक ही आदमी तो नहीं ।

follow hindusthan samvad on :
error: Content is protected !!