जिला प्रशासन कड़ाई से अनुपालन की आप ने रखी माँग
सिवनी, 21 अप्रैल। कोरोना महामारी को मद्देनजर जिला प्रशासन सहित माननीय न्यायालय के आदेशों का कड़ाई से पालन करवाने व जनमानस के सुझावों पर 7 सूत्रीय माँगो के साथ आप के जिला उपाध्यक्ष इंजी. हर्षवर्धन सिंह बघेल ने जिला कलेक्टर सिवनी को कोविड महामारी लॉकडाउन के समय ईमेल के द्वारा एक पत्र भेजा है जिसमे सद्भावना पूर्वक जिला कलेक्टर से सिवनी नगर में स्थित निजी पैथालॉजी के साथ चिकित्सालयों द्वारा जिला प्रशासन माननीय उच्च न्यायालय के आदेशों को ठेंगा दिखाते हुए नजर अंदाज किये जाने की बात कही है।
कोविड महामारी के संकट काल मे आपदा को अवसर समझने वाले ऐसे संचालकों पर कड़ी कार्यवाही के साथ पालन कराने का निवेदन किया है साथ ही जनमानस से मिल रहे सुझावों पर गंभीरता से विचार करते हुए कार्यवाही की अपेक्षा की है।


आम आदमी पार्टी सिवनी के जिला मीडिया प्रभारी राजेश पटेल ने बुधवार को जारी बयान में बताया कि वर्तमान में जारी महामारी के मद्देनजर निजी चिकित्सालयों पैथालॉजी को शासन के अधीनस्थ कर लिया जाये। ताकि सामान्य बीमारी के साथ कोविड के इलाज की व्यवस्था सुचारू रूप से आमजन को मिल सके। सिवनी जिले के बंडोल,छपारा,बरघाट, कुरई केवलारी, घंसौर ,लखनादौन, धनोरा जैसे स्थानों पर कम से कम डॉक्टरों की एक टीम के साथ 25 बेड के अस्थाई कोविड अस्पताल बनाया जाए । खाली पड़े छात्रावासों के भवन के साथ अन्य सामग्री का उपयोग किया जा सकता हैं। जिले में कार्यरत कइयों निजी चिकित्सक सामान्य बीमारी की जाँच भी बंद कर दिए है जिससे शासकीय चिकित्सालय में अतिरिक्त दबाब बढ़ रहा है ऐसे चिकित्सकों को हिदायत के साथ सेवाएं उपलब्ध कराई जाए और यदि ऐसा नही करते है तो इनकी स्थायी रुप से पंजीयन मान्यता रद्द किया जाए। कोरोना संक्रमित मरीजों के साथ सभी को पौष्टिक आहार उपलब्ध करवाया जाए। वैक्सीन टीकाकरण का कार्य युद्धस्तर पर 24 घंटे दिल्ली सरकार की तर्ज पर किया जाए।


राजेश पटेल ने आगे कहा कि वैक्सीनेशन कार्य मे लगे सहायकों को पूर्ण प्रशिक्षित नही किया गया है तो आन लाइन जैसे संभव हो कार्य पूरा किया जाए। आवश्यक दवाओं ,ऑक्सीजन की अतिरिक्त व्यवस्था रखी जाए।
लंबा लॉक डाउन से कइयों मीडिल वर्ग के साथ छोटे गरीब रोज कमाने खाने वाले नागरिकों पर आर्थिक संकट बढ़ गया है। सरकार ऐसे परिवारों को राहत पहुँचाये। जिले में कई प्रकार की अफवाहें फैल रही है इन्हें तत्काल रोका जाएं।

हिन्दुस्थान संवाद