सिवनी, 12नंवबर। प्रदेश शासन द्वारा बेरोजगार युवक-युवतियों को आर्थिक रूप से सशक्त करने एवं समाज की मुख्य धारा से जोड़ने के निरंतर प्रयास किये जा रहे हैं। शासन द्वारा विभिन्न विभागों के माध्यम से योजनाओं को संचालित कर बेरोजगार युवक/ युवतियों को स्व-रोजगारमुखी प्रशिक्षण तथा खुद का व्यवसाय प्रारंभ करने के लिए प्राथमिकता के आधार पर ऋण तथा ऋण राशि में अनुदान प्रदान किया जा रह हैं।

शासन की स्वरोजगारमुखी योजना से जिले के ग्राम छपारा की 24 वर्षीय निवासी श्रीमती प्रगति राजपूत भी लाभान्वित हुई हैं। वे बताती है कि ग्रेजुऐशन पूर्ण करने के उपरांत से ही उन्हें खुद का व्यवसाय करने इच्छा थी, जिसमें उनके पति का भी प्रोत्साहन मिला। उन्होंने स्थानीय मांग को देखते हुए जिला उद्योग कार्यालय के माध्यम से प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम योजना का लाभ लेते हुए ईट निर्माण कार्य की अपनी यूनिट लगाई हैं । उन्हें योजना अंतर्गत यूनिट के लागत 25 लाख रूपये के ऋण में 35% सब्सिडी अर्थात 8.75 लाख (आठ लाख पचहत्तर हजार रूपये मात्र) की अनुदान राशि भी शासन से मिली है।

वह बताती है कि इस व्यापार द्वारा मुझे लगभग 4 से 5 लाख रूपये तक प्रतिमाह की कमाई हो जाती है। श्रीमति राजपूत द्वारा इस कार्य के माध्यम से 12 से 14 लोगों को रोजगार दिया जा रहा है। शासन द्वारा चलाई जा रही प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम योजना युवाओ के लिए बहुत महत्वपूर्ण योजना है। श्रीमति राजपूत ने युवाओं से नये-नये उद्योगों को तलाश कर प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम योजना का लाभ उठाने के लिये कहा।

हिन्दुस्थान संवाद

error: Content is protected !!