भोपाल, 15 मई । कोरोना टीकाकरण सत्र के दौरान प्रत्‍येक टीकाकरण केन्‍द्र पर दो आशा कार्यकर्ताओं को प्रति सत्र 200 रुपये प्रत्‍येक की प्रोत्साहन राशि प्रदान की जायेगी। यह राशि कोविड-19 के टीकाकरण सत्रों के दौरान सहयोग कर रहीं आशा कार्यकर्ता, शहरी आशा अथवा आशा सहयोगी को प्रदान की जायेगी। आशा कार्यकर्ताओं को सुरक्षा हेतु मास्‍क, सैनिटाईजर, हेण्‍ड ग्‍लब्‍ज भी उपलब्‍ध कराये जायेंगे। यह आदेश राष्‍ट्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मिशन द्वारा जारी किये गये हैं।

इससे पहले इस तरह के आदेश मातृ मृत्यु की सूचना को बढ़ावा एवं सुनिश्चित करने के उदेश्य से सरकार ने सुमन कार्यक्रम के तहत प्राइमरी रिस्पोंडेंट को प्रति मातृ-मृत्यु की सूचना देने पर 1000 रुपये की प्रोत्साहन राशि देने का प्रावधान किया है। प्राथमिकता के आधार पर प्राइमरी रिस्पोंडेंट के रूप में आशा को प्रोत्साहित किया जाना है। ऐसी सूचना देने पर आशा कार्यकर्ताओं को 200 रुपये की प्रोत्साहन राशि तय की गई है ।

उल्‍लेखनीय है कि मातृ-मृत्यु दर को कम करने के लिए स्वास्थ्य संस्थानों में कई कार्यक्रम संचालित हैं। आशा की भूमिका बहुत व्यापक है इसे एक सामान्य सरकारी कर्मचारी से अलग देखना होगा। आशा मान्यता प्राप्त सामाजिक (सक्रिय, कर्मठ) स्वास्थ कार्यकर्ता है। आशा गाँव के स्वास्थ्य विकास हेतु बीमारियों से बचाव तथा स्वास्थ्यवर्धन के कार्य करती हैं।

आशाओं के ये हैं मुख्‍य कार्य

ग्राम स्वास्थ्य एवं पोषण दिवस को आयोजित करने में आशा की प्रमुख भूमिका है। इस दिन बच्चों को टीकाकरण के लिए केन्द्र लाना, माता तथा गर्भवती स्त्रियों को आंगनबाड़ी केन्द्र लाकर उनकी जांच तथा स्वास्थ्य षिक्षा करने में मदद करना।

सुरक्षित मातृत्व एवं बाल मृत्यु दर कम करने के लिए संस्थागत प्रसव के लिए आशा प्रमुख प्रेरक है। वह प्रसव के समय गर्भवती महिला के साथ स्वास्थ्य संस्था में जाती है तथा उसके साथ मदद के लिए कम से कम दो दिन तक रूकती है।

गाँव में स्वच्छता, साफ पानी, सुरक्षित मातृत्व, बच्चों का स्वास्थ्य, परिवार कल्याण एवं पोषण आदि के बारे में जागरूकता तथा ग्रामवासियों द्वारा इसे हासिल करने में आशा की भूमिका है। यह कार्य आशा ए.एन.एम., एम.पी.डब्ल्यू तथा आंगनबाड़ी कार्यकर्ता के साथ मिलकर करती है।

आशा कार्यकर्ता के लिए प्रोत्साहन राशि

आशा कार्यकर्ता को स्वास्थ्य के क्षेत्र में विभाग द्वारा संचालित विभिन्न कार्यक्रमों व गतिविधियों के संचालन व समन्वय करने में सहयोग के लिए कार्य आधारित प्रोत्साहन राशि का भुगतान किया जाता है।

आशा के लिए सहयोगी तंत्र

प्रेरित होकर बेहतर रूप से कार्य करने के लिये आशा को सामाजिक एवं शासकीय सहयोग तथा प्रोत्साहन की आवष्यकता होती है। इस हेतु निम्नलिखित अनुसार पहल की गई है:- राज्य स्तर पर आशा रिसोर्स सेण्टर, संभाग स्तर पर संभागीय कम्युनिटी मोबिलाईजर, जिला स्तर पर जिला कम्युनिटी मोबिलाईजर, ब्लॉक स्तर पर ब्लॉक कम्युनिटी मोबिलाईजर तथा 10 से 12 गांव पर आशा सहयोगी का दायित्व निर्धारित किया गया है।

इनपुट-हिन्‍दुस्‍थान समाचार

error: Content is protected !!