सिवनी, 14 जनवरी।महाप्रबंधक जिला व्यापार एवं उद्योग केंद्र ने बताया कि सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम विभाग द्वारा एमएसएमई विकास नीति- 2021 में संशोधन कर सॉटेंक्स प्लांट और फसलों/अनाज की सॉटिंग/ग्रेडिंग/सफाई (परन्तु ऐसा सॉटेंक्स प्लांट (ग्रेडिंग सफाई सहित) जो ऐसी धान मिलिंग इकाई जो मुख्यतः धान मिलिंग का कार्य करती है, के परिसर में स्थापित किया गया हो को छोड़कर)

  एमएसएमई विकास नीति 2021 अंतर्गत अपात्र सूची के बिन्दु कमांक-20 में संशोधन किया गया है कि सॉटेंक्स प्लाट जो कि अब तक अपात्र सूची में सम्मिलित थे, को अब अधिसूचना जारी होने के दिनांक से नीति अंतर्गत सुविधाएं प्राप्त हो सकेंगी, बशर्ते कि वे धान मिलिंग करने वाली इकाईयों के साथ उनके परिसर में स्थापित किये गये जायें, अथवा पूर्व से स्थापित धान मिलिग इकाईयों के परिसर में अधिसूचना जारी होने के दिनांक या उसके पश्चात् स्थापित हों को वित्तीय सहायता देने का प्रावधान रखा गया है।    

हिन्दुस्थान संवाद

error: Content is protected !!