बेरोजगारी, किसान आत्महत्या के साथ आदिवासियों के अत्याचार में मप्र नंबर वन: कमलनाथ


सिवनी, 23 मई। मध्यप्रदेश पूरे देश में आदिवासी के अत्याचार में नंबर वन है। बेरोजगारी और किसानों की आत्महत्या में नंबर वन है। देश का अच्छा संविधान गलत हाथों में आ गया जिसका दुरुपयोग किया जा रहा है। मध्यप्रदेश में लगातार आदिवासी परिवारों के साथ अत्याचार हो रहा है और लोगों को जाति, धर्म के नाम पर बांटने का प्रयास किया जा रहा है जो अच्छे संविधान के लिए घातक है। हम मध्यप्रदेश में आदिवासी बचाओ भाजपा भगाओ अभियान चलायेंगे, ताकि प्रदेश के आदिवासियों के अस्तित्व के साथ खिलवाड़ कर रही सरकार की विदाई हो सके।

यह बात सोमवार की दोपहर को जिले के कुरई विकासखंड अंतर्गत ग्राम सिमरिया में बीते दिन हुई माब लिचिंग की घटना को लेकर पीड़ित परिवारों से मिलने के बाद प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री एवं प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष कमलनाथ ने पत्रकार वार्ता में कही। उन्होंने भाजपा सरकार पर जमकर निशाना साधते हुए उसे आदिवासियों का विरोधी बताया।

कमलनाथ ने कहा कि ग्राम सिमरिया में दो लोगों की हत्या की गई यह दुखद घटना है। यह प्रश्न पूरे प्रदेश का है। चाहे नीमच की बात हो मनावर की बात हो, घटना दोहराना नहीं चाहता हूं ये एक योजना के तहत किया जा रहा है और किसी की हिम्मत न पड़े, अगर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह इनका बचाव न करें? यह बात स्पष्ट है ये तस्वीर आपके सामने है। ग्राम सिमरिया में हुई हत्या के मामले में आज तक कोई जांच पूरी नहीं हुई है। हमने मांग की थी सीबीआई जांच कराने की ज्यूडिशियल जांच कराने की। सच्चाई सामने आये और सजा फौरन दी जाये। आज तक इक्वारी खत्म नहीं हुई। वीडियो में सब कुछ गवाह है तो किस बात की कसर बची है। ये इनकी योजना है समाज को आदिवासी समाज को कैसे बांटे?

उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह रोज सुबह उठकर यह तय करते है कि में आज कौन सी घोषणा करूंगा। आज मैं कौन सी कलाकारी करूंगा। चार दिन पहले कहा कि ठेला चलाके खिलौने इकट्ठा करूंगा, वो तो तैयारी करें अब तो उनको आगे छह सात आठ दस साल उन्हें ठेला ही चलाना पडेगा। ये आज हालात मध्यप्रदेश के है। बडी चिंता की बात है। सामाजिक एकता की बात है कि आज सब मामले हमारे सामने है।

कमलनाथ ने कहा कि कोई समाज , आदिवासी समाज गौहत्या के पक्ष में नही है और ये जो आरोप लगाते है कि मांस है उनके घर में जाइये वहां तो हनुमान की फोटो लगी है शिव की फोटो लगी है और यह कह रहे है कि मांस खा रहे है। कोई तो आरोप  लगाना है ना।

कमलनाथ ने कहा कि कोई समाज , आदिवासी समाज गौहत्या के पक्ष में नही है और ये जो आरोप लगाते है कि मांस है उनके घर में जाइये वहां तो हनुमान की फोटो लगी है शिव की फोटो लगी है और यह कह रहे है कि मांस खा रहे है। कोई तो आरोप लगाना है ना। किस तरह हमारी कानून व्यवस्था है हमारा संविधान है। अच्छा संविधान गलत हाथों में जो चला गया है आज उसका कितना दुरूपयोग हो रहा है आज हमारे देश की संस्कृति में कितना आक्रमण हो रहा है। आज भारत में इतनी धर्म, जातियां ,भाषायें, रस्म , इतने देवी देवताएं के साथ एक झंडे के नीचे खडा है क्योंकि हमारे देश की संस्कृति है। और ये देश की संस्कृति पर आक्रमण हो रहा है।


जिला कांग्रेस के प्रवक्ता राजिक अकील ने बताया कि सोमवार को मध्यप्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री, म.प्र. कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष कमलनाथ ग्राम सिमरिया में मृतक धानसा इनवाती के परिजनों से मुलाकात करने उनके निवास पंहुचे। जहॉ परिवार को सांत्वना देकर दोषियों पर कठी कार्यवाही कराने का आश्वासन दिया एवं मृतक के परिजनों को 3-3 लाख रूपये की राशि एवं सम्पतलाल बट्टी की छोटी बेटी की पढ़ाई का पूरा खर्च वहन करने को कहा। इसी घटना में घायल ब्रजेश बट्टी के स्वास्थ्य के संबंध में जानकारी ली।


विक्रांत भूरिया ने कहा अलीराजपुर जिला आदिवासी बाहुल्य होते हुए आर्थिक रूप से कमजोर जिला है केन्द्र से जो फंड आना चाहिये 4 हजार करोड आना था जोकि भाजपा सरकार ने घटाकर 17 सौ करोड कर दी, पूरे मध्यप्रदेश में आदिवासियो के लिए 1.5 लाख सरकारी नौकरियो पर पद खाली है शिवराज सिर्फ बोलते है किन्तु आदिवासी युवाओं की भर्ती नही कर रहें है।


पीड़ित परिवार को सात्वना देने पहुचे कमलनाथ, डिंडोरी विधायक ओमकार मरकाम, बिछिया विधायक नारायण पट्टा, जबलपुर विधायक तरूण भनोट, पूर्व विधायक रजनीशसिंह, नरेश मरावी, असलम खान, मोहन चंदेल, राजा बघेल, ब्रजेशसिंह लल्लू बघेल, तेजसिंह रघुवंशी सहित बडी संख्या में कांग्रेस पदाधिकारी उपस्थित रहें।


इस दौरान कमलनाथ के साथ एमपी यूथ कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष विक्रांत भूरिया, तरुण भनोट, विधायक ओमकार मरकाम समेत सिवनी जिले के तमाम कांग्रेस के पदाधिकारी मौजूद रहे।

हिन्दुस्थान संवाद-

follow hindusthan samvad on :
error: Content is protected !!