म.प्रः भाप्रसे के अधिकारी पी.नरहरि ने इंदौर की स्वच्छता पर लिखी किताब , सिविल सेवा दिवस पर किताब “स्वच्छ इंदौर” को सफाई कर्मियों को किया समर्पित

भारतीय प्रशासनिक सेवा के वरिष्ठ अधिकारी और इंदौर के पूर्व कलेक्टर पी नरहरि ने लिखी है किताब
भोपाल, 21 अप्रैल। भारतीय प्रशासनिक सेवा के वरिष्ठ अधिकारी और इंदौर के पूर्व कलेक्टर पी.नरहरि ने इंदौर की स्वच्छता पर आधारित किताब को इंदौर के सफाई कर्मियों को समर्पित की है।


पी नरहरि ने यह बात गुरूवार को उनके सोशल मीडिया फेसबुक के पेज में कही है। उन्होनें कहा कि सिविल सेवा दिवस 2022 के अवसर पर मेरी नई किताब स्वच्छ इंदौर के आगमन की घोषणा करते हुए मुझे बेहद खुशी हो रही है।


यह किताब बताती है कि कैसे इंदौर लगातार देश का सबसे स्वच्छ शहर बना। इस किताब की प्रस्तावना देश के महान क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर द्वारा लिखी गई है। वर्ष 2014 में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा सचिन तेंदुलकर को स्वच्छ भारत मिशन के पहले नौ में से एक ब्रांड एंबेसडर के रूप में नियुक्त किया गया था।
यह पुस्तक बताती है कि- वे कौन सी रणनीतियाँ हैं जिन्होंने इंदौर को देश का सबसे स्वच्छ शहर बनने में सक्षम बनाया? इंदौर ने ऐसी क्या स्ट्रेटजी अपनाई जिस कारण विदेशी प्रतिनिधियों को भी इंदौर आकर इसकी सफलता की कहानी को प्रत्यक्ष रूप से देखना पड़ा।
यह किताब उन अधिकारियों, जनप्रतिनिधियों और सामाजिक संगठनों के बारे में बताती हैं जिन्होंने विभिन्न माध्यमों, दक्षता तथा बौद्धिक कौशल के साथ स्वच्छता के क्षेत्र में इंदौर की सफलता की कहानी को लिखने में अपना सहयोग दिया।
कैसे स्वच्छता का गाना “हो हल्ला” इंदौर की जनता के लिए एक एंथम बन गया जिसे सुनकर रोज इंदौरवासी उठते थे और इंदौर को देश का सबसे स्वच्छ बनाने के लिए अपनी सहभागिता निभाते थे। इस गाने को ऋषिकेश पांडे ने लिखा था और इसे बॉलीवुड के मशहूर सिंगर शान द्वारा गाया गया था। इसी क्रम में हैट्रिक लगाएंगे, चौका लगाएंगे, स्वच्छता का पंच आदि गानों द्वारा हमारे नागरिकों का प्रोत्साहन बना रहा।
आगे बताया कि स्वच्छता में सिरमौर इंदौर की सफलता को देश विदेश में ख्याति प्राप्त हुई और इसे लगातार ट्विटर एवं अन्य माध्यमों से हमारे देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान एवं अन्य वरिष्ठ अधिकारियों तथा जनप्रतिनिधियों द्वारा सराहा गया।

किताब “स्वच्छ इंदौर” किसी भी शहर के नागरिकों, प्रशासकों, नीति निर्माताओं, पत्रकारिता के विद्यार्थियों और सामाजिक संगठनों के लिए अपने शहरों को लिवेबल(रहने योग्य) बनाने के लिए एक संदर्भ बिंदु बन सकती है। यह राइट टू क्लीनलीनेस को बढ़ावा देगी तथा लोगों को स्वस्थ जीवन जीने के लिए प्रेरित करेगी। जिसे उन्होनें इंदौर के सफाई कर्मियों को समर्पित की है।

पुस्तक में है मनीष सिंह, आशीष सिंह ,सुश्री प्रतिभा पाल और पूर्व महापौर श्रीमती मालिनी गौड़ पर आधारित विशेष चैप्टर
पुस्तक के लेखक पी नरहरि बताते हैं कि स्वच्छता के क्षेत्र में उल्लेखनीय कार्य करने वाले नगर निगम के तीनों पूर्व आयुक्त सहित पूर्व महापौर श्रीमती मालिनी गौड़ पर उनके योगदान पर आधारित विशेष चौप्टर इस किताब में है। साथ में समाज के अनेक नामचीन व्यक्तियों के साक्षात्कार और उनकी राय का उल्लेख भी किताब में है। अंग्रेज़ी में लिखी गई यह किताब प्रभात प्रकाशन द्वारा प्रकाशित की गई है।


हिन्दुस्थान संवाद

follow hindusthan samvad on :
error: Content is protected !!