भोपाल, 28 अप्रैल।नगरीय विकास एवं आवास मंत्री भूपेन्द्र सिंह ने अधिकारियों को निर्देशित किया है कि नगर की जनसंख्या के अनुरूप नगर में विद्युत-गैस शवदाह गृह बनाने की कार्रवाई तत्काल प्रारंभ करें। पाँच लाख और उससे अधिक जनसंख्या के शहरों में आवश्यकतानुसार एक से अधिक शवदाह गृह बनाये जा सकते हैं।

उन्‍होंने कहा है कि एक लाख से पांच लाख तक की आबादी के शहरों में कम से कम एक विद्युत-गैस शवदाह गृह बनाने का लक्ष्य रखा जाये। श्री सिंह ने कहा है कि किसी नगर में स्थापित विद्युत-गैस आधारित शवदाह गृह कार्यशील नहीं है, तो अतिशीघ्र उसे क्रियाशील करवायें।

इस संबंध में बुधवार प्रमुख सचिव नगरीय प्रशासन एवं विकास नीतेश व्यास का कहना था कि विद्युत-गैस शवदाह गृह पर्यावरण, स्वच्छाता तथा वायु प्रदूषण कम करने की दृष्टि से उपयोगी कदम है। इन शवदाह गृहों को स्था‍पित करने के लिए निकाय स्वयं की निधि, 15वें वित्त आयोग की वायु प्रदूषण- स्वच्छता हेतु प्रावधानित राशि और विधायक- सांसद निधि का उपयोग कर सकते हैं।

उन्‍होंने कहा कि इस कार्य के लिए कई सामाजिक संस्थाएँ भी सहायता के लिए तत्पर रहती है। इन संस्थाओं के माध्यम से भी विद्युत-गैस शवदाह गृह स्थापित करने के लिए जन सहयोग प्राप्त करने का प्रयास किया जाएगा।

हिन्दुस्थान संवाद