जबलपुर,11,मई| नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन के सौदागर सिटी अस्पताल के संचालक सरबजीत सिंह मोखा को मंगलवार गिरफ्तार किये जाने के बाद अब कार्यवाहियों का दौर शुरु हो गया है, मोखा के अस्पताल को आज शाम सीजीएचएस की सूची से बाहर कर दिया गया है, इसके अलावा सिटी अस्पताल में हुई कोरोना संक्रमितों की मौत के मामले में परिजनों ने सीबीआई जाँच की मांग कर रहे है |

पुलिस सूत्रों ने बताया कि नकली रेमडेसिविर इंजेक्शन की खरीद फरोख्त के मामले में जबलपुर पुलिस ने सिटी अस्पताल के संचालक सरबजीतसिंह मोखा पर प्रकरण दर्ज कर आज सुबह गिरफ्तार कर लिया , इसके बाद आज शाम मोखा के सिटी अस्पताल को सीजीएचएस की सूची से बाहर कर दिया गया है।

आदेश में यह भी कहा गया है कि जो मरीज अभी यहां पर भर्ती हैं, उनका सीजीएचएच की दरों पर इलाज किया जाएगा, वहीं सीजीएचएस के तहत जिन मरीजों का उपचार किया गया है, उनके बिलों की भी जांच की जाएगी।

इसके अलावा मोखा के अस्पताल में कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत के मामलों को लेकर मृतकों के परिजनों ने भी आरोप लगाना शुरु कर दिया है । परिजनों का आरोप है कि उनके परिजनों को भी नकली इंजेक्शन लगाए गए हैं जिससे मौत हुई है। जिसकी सीबीआई जाँच होना चाहिए। वहीं सरबजीतसिंह मोखा के खिलाफ पुलिस के द्वारा एनएसए के तहत कार्यवाही करने का प्रतिवेदन जिला दंडाधिकारी को भेजा जा रहा है |

इनपुट-हिन्दुस्थान समाचार