मानवीय संकट के दौर में भी ओछी हरकतों से बाज नहीं आ रहे कांग्रेसी

छिंदवाडा, 30 अप्रैल।पूरा देश और प्रदेश कोरोना महामारी की चपेट में है। ऐसे अभूतपूर्व संकट के समय जनता अपने जनप्रतिनिधियों और राजनीतिक दलों से उसके आंसू पोंछने, घावों पर मरहम लगाने की आशा रखती है। लेकिन जनता को राहत पहुंचाना तो दूर प्रदेश कांग्रेस और उसके मुखिया कमलनाथ इस मुश्किल दौर में भी झूठ बोलकर सस्ती लोकप्रियता हासिल करने का प्रयास कर रहे हैं, जो घृणित और निंदनीय है। यह बात जारी बयान में भारतीय जनता पार्टी के जिला अध्यक्ष ने पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ द्वारा प्रदेश की एक कंपनी को अपने प्रयासों से तीन क्रायोजेनिक टैंकर दिलाने संबंधी बयान को झूठा बताते हुए कही।

श्री विवेक बंटी साहू ने कहा कि जिन तीन टैंकरों की बात कमलनाथ कर रहे हैं, उनके लिए जुलाई, 2020 में इनर्ट क्रायोजेनिक्स एंड अलायड गैसेज प्रा. लिमि. पीथमपुर ने चित्तूर की कंपनी वीआरवी एशिया पैसेफिक प्राइवेट लिमिटेड को ऑर्डर दिया था। पीथमपुर की कंपनी द्वारा दिये गए ऑर्डर की कॉपी अब सार्वजनिक हो चुकी है, जिससे स्पष्ट है कि इनमें से प्रत्येक टैंकर की कीमत 37 लाख 50 हजार रुपये थी और उनकी डिलेवरी 12 से 16 सप्ताह के बीच की जाना थी। इन्हीं तीन क्रायोजेनिक टेंकर्स की डिलेवरी इनर्ट क्रायोजेनिक्स एंड अलायड गैसेज प्राइवेट लिमिटेड को की गई है। ऐसे कमलनाथ का यह दावा कि इन तीन टैंकरों की डिलेवरी प्रदेश की कंपनी को उनके प्रयासों से की गई है, समझ से परे है।इसी तरह कमलनाथ ओर नकुल नाथ प्रतिदिन छिन्दवाड़ा में भी झूठ बोल रहे हे की आक्सीजन वो भेज रहे हे जबकि प्रतिदिन प्रदेश के यशस्वी मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की प्रदेश सरकार भेज रही हे , अगर उन्होंने ने 1 ग्राम भी आक्सीजन दी हे तो बिल बाऊचर दिखायें।झूठ न बोलें, जमीन पर काम दिखाएं श्री विवेक बंटी साहू ने कहा कि कोरोना की पहली लहर से लेकर अभी तक भारतीय जनता पार्टी के कार्यकर्ता पीड़ितों को भोजन, दवा और राशन उपलब्ध कराने, प्रवासी मजदूरों की सेवा करने और अब लोगों को इस महामारी से बचाने के लिए वेक्सीनेशन के लिए प्रेरित करने के काम में लगे हैं।

श्री विवेक बंटी साहू ने कहा कि यह समय प्रत्येक जिम्मेदार राजनेता से जमीन पर उतरकर ठोस कार्य करने की अपेक्षा रखता है, जिससे परेशान जनता को राहत मिल सके। अगर अपनी पार्टी के दिये संस्कारों के चलते कमलनाथ जी ऐसा नहीं कर सकते, तो शांत बैठें, लेकिन झूठ बोलकर, भ्रमित करके जनता के आंसुओं का मखौल न उड़ाएं।

हिन्दुस्थान संवाद