सिवनी, 19 अप्रैल। जिले के कलेक्टर डॉ. राहुल हरिदास फटिंग ने कोरोना संक्रमण को देखते हुये जिलेवासियों से अपील की है कि वे सर्दी, खांसी, बुखार और सांस लेने में दिक्कत आदि लक्षण होने पर तुरंत फीवर क्लीनिक पहुँचकर चिकित्सक को दिखायें। आवश्यक होने पर कोरोना की जॉच करवायें। नागरिकों से यह आग्रह किया गया है कि वे मास्क पहने, सैनिटाइजर का उपयोग करें, सोशल डिस्टेंसिंग अपनायें। आमजन को अत्यधिक सतर्कता और सजगता के साथ सामाजिक दूरी, मॉस्क तथा सैनिटाइजर का प्रयोग करते हुए अपने आप का बचाव करना है, जब तक जरूरी न हो घर से बाहर न निकलें।
कलेक्टर डॉ फटिंग ने सोमवार को जिलेवासियों से अपील की है कि कोरोना के लक्षण दिखाई देने पर बिना किसी भय के तुरंत फीवर क्लीनिक में चिकित्सक से अपना परीक्षण अवश्य करवाएं। प्रारंभिक लक्षण दिखते ही बुजुर्ग एवं उच्च जोखिम वाले व्यक्ति तुरंत चिन्हित फीवर क्लीनिक में अपना इलाज करायें, यह त्वरित निर्णय उनकी जान के जोखिम को कम करता है और कई बार यह जीवनदायक होता है।
कलेक्टर ने कहा कि कोविड संक्रमण के प्रारंभिक लक्षण जैसे सर्दी-खांसी, बुखार और सांस लेने में तकलीफ होने पर फीवर क्लीनिक में अपनी जांच तुरंत करवाएं, स्वयं इलाज न करें, ऐसी स्थिति में कई बार जान का जोखिम होता है। प्रायः यह देखा जाता है कि लक्षण दिखाई देने पर स्वयं इलाज करने की प्रवृत्ति घातक है। ऐसे लोग जो सर्दी-खांसी, बुखार, सांस लेने में तकलीफ, मधुमेह, उच्च रक्तचाप गंभीर श्वसन तंत्र की बीमारी, गर्भवती महिलाएं, अस्थमा, हृदयरोगी, टी.बी., कैंसर, किडनी से संबंधित बीमारी होने पर उच्च जोखिम की संभावना अत्यधिक होती है।
हिन्दुस्थान संवाद