मत्स्य संपदा योजना का दुष्प्रचार कर राशि दुगनी करने के प्रलोभन से रहे दूर 

सिवनी 28 फरवरी। जिले में प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना का गलत प्रचार कर कुछ प्राईवेट कंपनियो द्वारा किसानों की जमीन में तालाब बनाकर एक साल में राशि दुगना करने का लालच देकर उनसे मोटी रकम लेकर  धोखाधडी करने के संबंध में उप संचालक मत्स्योद्योग कार्यालय को  लगातार शिकायत प्राप्त हो रही है।

उप संचालक मत्स्योद्योग श्री के. एल. मरावी ने जिले के किसानो को ऐसे गलत प्रचार एवं ठगी से बचने के लिए उनके सिवनी स्थित कार्यालय मे संपर्क करने की सलाह दी है। उप संचालक श्री मरावी ने इस संबंध मे बताया कि प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना केवल मत्स्योद्योग विभाग से संचालित है एवं विभाग के माध्यम से ही किसानो के आवेदन अनुसार नियमानुसार योजना का लाभ प्रदाय किया जाता है। यह पूर्ण रूप से सरकारी योजना है। किसानो से तालाब बनाने हेतु किसी भी प्रकार की राशि नही ली जाती, योजना तहत किसानो से आवेदन प्राप्त होने के बाद जिला स्तरीय गठित समिति के माध्यम से प्रस्ताव संचलनालय भोपाल को प्रेषित किये जाते है। राज्य स्तर में गठित समिति से अनुमोदन उपरांत तालाब निर्माण करने की लिखित अनुमति विभाग द्वारा प्रदाय की जाती है एवं तालाब निर्माण पूर्ण होने के बाद विभागीय उपयंत्री के माध्यम से मूल्यांकन रिपोर्ट प्रस्तुत करने पर अनुदान राशि डी.बी.टी. के माध्यम से संबंधित किसान के बैंक खाते में प्रदाय की जाती है।

उप संचालक श्री मरावी ने जिले के किसानो से अपील की है कि वे किसी भी प्राईवेट कंपनी या अन्य व्यक्ति के प्रलोभन मे न आये और किसी भी प्रकार की ठगी से सावधान रहे। तालाब निर्माण एवं अन्य योजना हेतु यदि किसी के द्वारा राशि लेकर लाभ देने की बात कही जाती है तो तत्काल उप संचालक मत्स्योद्योग कार्यालय में शिकायत करे |

हिन्दुस्थान संवाद

error: Content is protected !!