सिवनी, 18 अप्रैल। इतिहास एक बार फिर भारत के मानवीय मूल्यों और संवेदनाओं की परीक्षा लेने को आतुर प्रतीत होता है। प्रकृति जब चुनौती देती है और इतिहास परीक्षा लेता है तब उसका लक्ष्य हर व्यक्ति होता है और जब हर व्यक्ति इससे जूझने और संघर्ष के लिए तैयार हो जाता है तो यह स्वयंमेव सामूहिक प्रयास बन जाता है। आज कोरोना की चुनौती ऐसी ही परीक्षा ले रही है जो व्यक्ति सजग है उसका परिवार सुरक्षित है और जब हर परिवार सुरक्षित है तो पूरा देश सुरक्षित है।

उक्त आशय की अपील जिले वासियों से करते हुए भाजपा भाजपा जिला अध्यक्ष श्री आलोक दुबे द्वारा कहा गया कि यह समय स्वयं को सचेत और सुरक्षित रखने का है जहां तक सरकार की बात है वह पूरी तत्परता से व्यवस्थाओं को बढाने और कमियों को दूर करने में जुटी हुई है लेकिन जिस तेजी से कोरोना रौद्ररूप धारण कर रहा है  उसके चलते कहीं ना कहीं कोई ना कोई संसाधन की कमी नजर आती है। इसका यह मतलब नहीं है की सरकार के प्रयासों में कमी है अगर कोरोना का यही रौद्र रूप चलते रहा तो हर व्यवस्था कहीं ना कहीं जाकर कम पड़ेगी इसके लिए हर व्यक्ति को कोरोना संक्रमण चैन को तोड़ने के लिए स्वयं को सुरक्षित रखना होगा।

श्री दुबे ने कहा कि,मानवता के इतिहास में इतना बड़ा संकट कभी नहीं आया है परंतु लगातार हमारी चिकित्सा टीम, जिला प्रशासन, सामाजिक संगठन एवं हम सब भी एक सेवासंगठन के रूप में लगातार प्रयत्न कर रहे हैं। श्री दुबे ने कहा कि,संकट विकट है बड़ी-बड़ी व्यवस्थाएं भी छोटी पड़ने लगी है इसका एकमात्र हल है जनता कर्फ्यू। संक्रमण चैन टूटनी चाहिए नहीं तो सारी व्यवस्थाएं छोटी पड़ जाएंगी। 

श्री दुबे ने कहा कि,जिले में टेस्टिंग की संख्या  लगातार बढ़ाई जा रही है। प्रदेश में ऑक्सीजन एवं रेमदेसीविर इंजेक्शन की उपलब्धता के लिए लगातार संवेदनशील मुख्यमंत्री शिवराज सिंह जी प्रयास कर रहे हैं । जहां अप्रैल के प्रथम दिन 150 मीट्रिक टन ऑक्सीजन उपलब्ध थी उसे लगातार बढ़ाते हुए आज 500 मेट्रिक टन एवं 30 अप्रैल तक 700 मेट्रिक टन करने का लक्ष्य माननीय मुख्यमंत्री जी ने लिया है। लेकिन मेरा मानना है  हमारे स्वयं के समर्पण भाव से किए गए प्रयासों से अंततः कोरोना हारेगा और मानवता जीतेगी।

हिन्दुस्थान संवाद