भोपाल, 25 अप्रैल। कोरोना संक्रमण की रोकथाम एवं मरीजों के उपचार के लिये राज्य शासन द्वारा व्यापक स्तर पर प्रबंध किये जा रहे हैं। आवश्यक दवाओं एवं उपकरणों के साथ रेमडेसिविर इंजेक्शन की उपलब्धता भी सुनिश्चित की जा रही है। प्रदेश में अब तक 7 विभिन्न कंपनियों से रेमडेसिविर इंजेक्शन के एक लाख 88 हजार से अधिक डोज प्राप्त हुए हैं। शनिवार को निजी सप्लाई के 10 हजार 940 डोज जिलों को वितरित किये गए।

मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि भारत सरकार द्वारा प्रदत्त स्वीकृति के अनुसार 30 अप्रैल तक मध्यप्रदेश को इन्जेशन के 95 हजार डोज प्राप्त होने की सम्भावना है। प्रदेश के लिए इस कोटे को बढाकर 1 लाख 50 हजार डोज करने का अनुरोध भारत सरकार से किया गया है। मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि रेमडेसिविर इंजेक्शन की आपूर्ति प्रदेश के उन निजी अस्पतालों में भी नि:शुल्क करने का निर्णय लिया गया है, जो सरकार के साथ अनुबंधित हैं। जो अस्पताल सरकार से अनुबंधित नहीं है, उन्हें इंजेक्शन प्राप्त करने के लिए इंजेक्शन की राशि 1,568 रुपये प्रति इंजेक्शन रेड क्रास में जमा करानी होगी। उन्होंने बताया कि रेमडेसिविर इंजेक्शन के उपयोग का क्लीनिकल प्रोटोकॉल भी जारी कर दिया गया है।

जिलों को दवा क्रय करने के लिये आवंटन जारी

मुख्यमंत्री श्री चौहान ने बताया कि सभी जिलों को दवाएँ क्रय करने के लिये 13 करोड़ 64 लाख रूपये से अधिक का आवंटन जारी किया गया है। दवाइयों की जमाखोरी और कालाबाजारी करने वालों के विरुद्ध सख्त कार्यवाही करने और उन्हें रासुका में जेल भेजने के निर्देश दिए गए हैं।

हिन्दुस्थान संवाद