सिवनी, 11 जून। मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ के सी मेशराम ने बताया कि भारत शासन के स्वास्थ्य सचिव राजेश भूषण द्वारा पत्र भेजकर सूचित किया है कि नेशनल एक्सपर्ट ग्रूप ऑन वैक्सीन एडमिनिस्ट्रेशन फॉर कोविड.19 की सलाह पर अब कोविड.19 का टीकाकरण निम्न स्थितियों में किया जा सकता है-  ऐसे व्यक्ति कोविड.19 से पीड़ित है तो उसके पूर्ण रूप से स्वस्थ्य होने के उपरांत 3 माह पश्चात कोविड टीकाकरण किया जा सकता है।इसी तरह कोविड.19 पॉजिटिव पेंशेंट जिन्हे कोविड.19 संक्रमण के दौरान एन्टी सार्स मोनोक्लोनल एंटीबॉडीज या कन्वलसेंट प्लाज्मा दिया गया है। ऐसे मरीजों को भी ठीक होने के 3 माह पश्चात कोविड टीकाकरण किया जा सकता है। ऐसे व्यक्ति जिन्हे कोविड.19 के प्रथम टीके का डोज लगने के बाद यदि वह कोविड पॉजिटिव हो जाता है तो उसे स्वस्थ्य होने के उपरांत कोविड का दूसरा टीका 3 माह पश्चात लेना चाहिये। 

        इसी तरह ऐसे व्यक्ति जिन्हे अन्य गंभीर बीमारियों के कारण अस्पताल में भर्ती होना पड़ा या आई सी यू  की सेवाएं लेनी पड़ी ऐेसे लोगो को भी अपना टीकाकरण स्वस्थ्य होने के 4 से 8 सप्ताह पश्चात करवाना चाहिये। ऐसे व्यक्ति जिन्होने कोविड.19 का टीका लगवा लिया है या जो पूर्व में कोविड पॉजिटिव थे किंतु अब आरटीपीसीआर जांच में निगेटिव पाए गए है, वे 14 दिन बाद अपना रक्तदान कर सकते है।

उन्होने बताया कि विशेषज्ञ समिति द्वारा सभी स्तनपान कराने वाली माताओं को भी कोविड.19 टीकाकरण कराने की अनुशंसा की गई है। किसी भी व्यक्ति को कोविड टीकाकरण कराने से पूर्व रैपिड एंटीजन टेस्ट कराना आवश्यक नही है। 

हिन्दुस्थान संवाद