भोपाल, 18 अप्रैल।मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान के आव्हान पर कोरोना की चुनौतियों से निपटने के लिए शासन प्रशासन के साथ कोरोना वॉलेंटियर्स भी कंधे से कंधा मिला कर काम कर रहे हैं। मध्यप्रदेश जन अभियान परिषद के साथ विभिन्न सामाजिक संगठनों के प्रतिनिधि कोरोना वॉलेंटियर्स की भूमिका निभाते हुए जन-जागरूकता के साथ कोरोना मरीजों के उपचार में भी सहयोगी की भूमिका निभा रहे हैं।

प्रदेश के लगभग हर जिले में कोरोना वॉलेंटियर्स की गतिविधियाँ निरंतर जारी हैं। कोरोना वॉलेंटियर्स टीकाकरण, चिकित्सा सुविधा, मास्क जागरूकता और कोविड नियंत्रण के अन्य कार्यों का हिस्सा बन रहे हैं। मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि कोरोना संक्रमण का जो अभूतपूर्व संकट आया है, उससे निपटने और आपदा के प्रबंधन में राज्य सरकार कोई कोर-कसर नहीं छोड़ रही है। यह लड़ाई ऐसी है, जो समाज के सहयोग से जीती जा सकती है। कोरोना संक्रमण की प्रभावी रोकथाम के लिये सरकार द्वारा किये जा रहे प्रयासों के साथ समाज को सक्रिय रूप से भागीदार बनाने के उद्देश्य से कोरोना वॉलेंटियर्स अभियान शुरू किया गया। उन्होंने बताया कि प्रदेश की अनेक सामाजिक संस्थाओं के साथ जन अभियान परिषद के कार्यकर्ता सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं।

विदिशा जिले में जन अभियान परिषद के कार्यकर्ता, ग्राम विकास प्रस्फुटन समिति के सदस्य और स्वयंसेवी संगठनों के सदस्य ‘मेरा मास्क-मेरी सुरक्षा’ अभियान में जन-जागरूकता का कार्य कर रहे हैं। लोगों से सम्पर्क कर मास्क की उपयोगिता और कोरोना गाइडलाइन के बारे में आमजन को सजग किया जा रहा है। शहरी क्षेत्रों के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में भी लगातार जागरूकता के लिये प्रेरणादायी संदेशों से कोरोना वॉलेंटियर्स प्रचार-प्रसार कर रहे हैं।

भोपाल जिले में कोरोना वॉलेंटियर्स टीकाकरण के लिये जागरूकता अभियान चलाकर स्वास्थ्य विभाग के अमले को सहयोग दिया जा रहा है। साथ ही वैक्सीनेशन सेंटर पर मास्क वितरण और रोको-टोका अभियान में समझाइश भी नागरिकों को दे रहे हैं। अशोकनगर जिले में जन अभियान परिषद के कार्यकर्ता और ग्राम विकास प्रस्फुटन समितियाँ दुकानदारों को जागरूक करने के साथ दुकानों के बाहर गोले बनाकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करने का आग्रह कर रहे हैं।

दतिया जिले में कोरोना वॉलेंटियर्स विभिन्न समुदायों को जागरूक करने का कार्य करने के साथ महत्वपूर्ण सूचनाएँ एवं जानकारियों का प्रचार-प्रसार कर रहे हैं। कोरोना से बचाव के उपायों के संदेश दीवारों पर भी उल्लेखित किये जा रहे हैं। मुरैना जिले के पोरसा में जन अभियान परिषद से जुड़े परामर्शदाता श्री मनीष शिवहरे और उनके भाई भूपेश शिवहरे ने एक अनूठी पहल की। इस पहल में बाहर से आये मजदूरों की चिकित्सकीय जाँच के साथ उन्हें नि:शुल्क भोजन भी करवाया गया।

कोरोना वॉलेंटियर्स द्वारा ऐसे लोगों से भी निरंतर सम्पर्क किया जा रहा है, जो लोग 45 वर्ष से अधिक आयु के हैं और उन्होंने अभी तक वैक्सीन नहीं लगवाई। भिण्ड जिले के ग्राम बाराकला कोरोना वॉलेंटियर्स ने ऐसे लोगों को पीले चावल देकर वैक्सीन लगवाने के लिए तैयार किया। बुरहानपुर और धार जिले में जन अभियान परिषद के कार्यकर्ताओं द्वारा कोरोना से बचाव के लिये रखी जाने वाली सावधानियों और मास्क के अनिवार्य उपयोग की समझाइश दी जा रही है।

बालाघाट जिले में स्वयंसेवकों की छोटी-छोटी टोलियाँ बनाकर उन्हें प्रशिक्षण भी दिया गया। जन अभियान परिषद द्वारा जिले की विभिन्न सामाजिक, धार्मिक, सांस्कृतिक और शैक्षणिक संस्थाओं के साथ आमजन तक कोरोना नियंत्रण के संदेश देते हुए जन-जागरूकता फैलाई जा रही है। कटनी जिले में जन अभियान परिषद के साथ एनएसएस, नेहरू युवा केन्द्र, एनसीसी के साथ अन्य स्वयंसेवी संस्थाएँ एक जुट होकर कोरोना के प्रति जन-जागरूकता का अभियान चला रहे हैं। शहरी एवं ग्रामीण क्षेत्रों के साथ रेलवे स्टेशन पर भी जागरूकता की गतिविधियाँ निरन्तर की जा रही है।

इसी प्रकार अन्य जिलों में कोरोना वॉलेंटियर्स स्थानीय प्रशासन के साथ मिल कर कोरोनाकी लड़ाई में सक्रिय भूमिका निभा रहे हैं।

हिन्दुस्थान संवाद