सिवनी, 05 मई । केंद्रीय इस्पात राज्यमंत्री फग्गन सिंह कुलस्ते तथा जिलें के कोविड प्रभारी एवं प्रदेश शासन के राज्यमंत्री आयुष विभाग (स्वतंत्र प्रभार) जलसंसाधन विभाग रामकिशोर कावरे ने बुधवार 5 मई को सिवनी पहुँचकर कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक में कोरोना संक्रमण रोकथाम की समीक्षा की। इस दौरान कुलस्ते ने संक्रमण से रोकथाम के लिए जनता कर्फ्यू के प्रभावी क्रियान्वयन करते हुए रेड जोन वाले क्षेत्रों में वैवाहिक एवं सामाजिक कार्यक्रमों को पूर्णतः प्रतिबंधित करने हेतु निर्देशित किया है।


आयोजित बैठक में केंद्रीय राज्यमंत्री कुलस्ते ने कोरोना संक्रमण रोकथाम के लिए जिले में उपलब्ध संसाधनों, चिकित्सकों एवं चिकित्सकीय उपकरणों की जानकारी प्राप्त कर रोस्टरवार कोविड केयर सेंटर में चिकित्सक एवं स्वास्थ्य कर्मियों की ड्यूटी लगाने के निर्देश दिए। उन्होंने संक्रमण से रोकथाम के लिए जनता कर्फ्यू के प्रभावी क्रियान्वयन करते हुए रेड जोन वाले क्षेत्रों में वैवाहिक एवं सामाजिक कार्यक्रमों को पूर्णतः प्रतिबंधित करने हेतु निर्देशित किया।


राज्यमंत्री कावरे ने जिले में एक्टिव केस एवं जिला चिकित्सालय तथा कोविड केयर सेंटर में उपचाररत मरीजों के संबंध में जानकारी प्राप्त करते हुए ऑक्सीजन, रेमडेशिविर इंजेक्शन के साथ ही अन्य जरूरी दवाइयों की उपलब्धता के संबंध में जानकारी प्राप्त की।
उन्होंने कहा कि किसी भी स्थिति में रेमडेशिविर एवं अन्य जरूरी दवाइयों की कालाबाजारी न हो यह सुनिश्चित किया जाये। शासकीय चिकित्सालय के साथ ही निजी चिकित्सालय में भी पूर्ण निगरानी रखी जाए। किल कोरोना अभियान की समीक्षा करते हुए उन्होंने अभियान तहत किया जा रहे सर्वेक्षण एवं वितरित मेडिसिन किट की जानकारी प्राप्त की। उन्होंने कहा कि सर्वे कार्य के बेहतर क्रियान्वयन हो तथा संदिग्ध व्यक्तियों को तुरंत ही मेडिसिन किट वितरित की जाऐ। स्वास्थ सुविधाओं के उन्नयन के लिए जिले के सभी 324 उपस्वास्थ्य केंद्र को कोविड सहायता केंद्र के रुप में विकसित करने के निर्देश दिए। सभी कोविड सहायता केंद्रों में कम से कम 50 किट उपलब्ध करते हुए ग्रामीणों को निशुल्क वितरण के निर्देश दिए साथ ही इन केंद्रों को प्रातः 8 से रात्रि 8 बजे तक संचालित करने हेतु निर्देशित किया।


आयुष मंत्री ने जिले की रेड, येलो तथा ग्रीन पंचायतों को समीक्षा करते हुए 4 विकासखण्ड क्रमशः बरघाट, सिवनी, छपारा एवं लखनादौन में एक भी पंचायत के रेड जोन में न होने पर अधिकारियों की सराहना की। उन्होंने शेष विकासखण्ड में भी रेड जोन पंचायतों की संख्या शून्य करने तथा ग्रीन पंचायतो को संक्रमण मुक्त रखते हुए येलो पंचायतों को ग्रीन में बदलते हुए जिले को संक्रमण मुक्त करने के लिए प्रभावी कार्यवाही करने के निर्देश अधिकारियों को दिए।


कलेक्ट्रेट सभागार में आयोजित बैठक में सांसद डॉ ढाल सिंह बिसेन, जिला भाजपा अध्यक्ष आलोक दुबे, कलेक्टर डॉ राहुल हरिदास फटिंग, मुख्य कार्यपालन अधिकारी जिला पंचायत पार्थ जैसवाल, अपर कलेक्टर मूलचंद वर्मा सहित अन्य जनप्रतिनिधियों एवं सम्बन्धित अधिकारी की उपस्थिति रही।


हिन्दुस्थान संवाद