अनूपपुर: सेवानिवृत्त हो रहे डिप्टी एमआई की निकली फर्जी नियुक्ति

अनूपपुर, 28 मई (हि.स.)। प्रदेश की स्वास्थ्य सेवाओं के अंतर्गत विभिन्न जिलों में फर्जी नियुक्ति आदेश, स्थानांतरण आदेश एवं फर्जी एम्लाईकोड के माध्यम से जालसाजी 119 संदिग्धों को सूचीबद्ध किया गया था। जिसमें मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी कार्यालय अनूपपुर में पदस्थ डिप्टी एमआई केपी सिंह की नियुक्ति फर्जी पाई गई है। जहां केपी सिंह ने फर्जी नियुक्ति से अपनी पूरी सर्विस भी कर ली और 31 मई 2022 को वह सेवानिवृत्त हो रहे हैं।

केपी सिंह

जानकारी के अनुसार केपी सिंह की नियुक्ति एक्सरे टैक्निशयन में हुई थी और उसके बाद फर्जी तरीके से जालसाजी कर दो बार प्रमोशन लेकर डिप्टी एमआई के पद तक पहुंच गये। वर्ष 2013 में उनका स्थानांतरण रीवा जिले से सीएमएचओं कार्यालय अनूपपुर किया गया था। जहां आने के बाद उन्होंने अपनी तरह की मलेरिया विभाग में 14 लोगो की फर्जी भर्ती करने के साथ ही राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन द्वारा जारी गाइड लाईन के विपरीत जाकर सीएचओं के स्थानांतरण में जांच के दौरान इनकी संल्पितता पाई गई थी। जहां नियम विरूद्ध स्थानांतरण को लेकर क्षेत्रीय संचालक द्वारा के.पी. सिंह को निलंबित कर दिया गया था।

एक्सरे टैक्निशयन में हुई थी नियुक्ति

वर्ष 1986-87 में सीधी जिले के चुरहट में केपी सिंह की नियुक्त एक्सरे टैक्निशयन के पद पर हुई थी। जहां उन्होंने एक्सरे टैक्निशय के पद से प्रमोशन लेते हुये बीईई व उसके बाद उप जिला माध्यम विस्तार अधिकारी (डिप्टी एमआई) के पद तक नियम विरूद्ध तरीके से प्रमोशन ले लिया और वर्ष 2013 में उनका स्थानांतरण रीवा से सीएमएचओं कार्यालय अनूपपुर हो गया। लेकिन फर्जी तरीके से किये गये प्रमोशन आर्डर व नियुक्ति को लेकर शिकायत हुई। जिसकी जांच पुलिस अधीक्षक दतिया व लोकायुक्त संगठन में संचनालय स्तर के गठित समिति द्वारा की गई।

संचालनालय स्वास्थ्य सेवाए मप्र के आयुक्त स्वास्थ्य सह सचिव ने विभिन्न जिले में फर्जी नियुक्ति आदेश, फर्जी स्थानांतरण आदेश एवं फर्जी एम्लाई कोड के माध्यम से जलसाजी कर संचालनालय स्तर से जारी बहुदउद्देशीय स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं की नियुक्ति हेतु आंवटन आदेश, स्थानांतरण आदेश एवं मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी द्वारा जारी नियुक्ति आदेश में सम्मिलित 119 संदिग्धों की सूची बनाई गई। इस सूची में के.पी. सिंह का नाम के.बी. सिंह था। जहां जांच के दौरान मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग कार्यालय में के.पी. डिप्टी एमआई की सर्विस बुक से के.बी. सिंह के फर्जी नियुक्ति आदेश व एम्लाई कोड का मिलान किया गया था, जिससे के.बी. सिंह की पहचान के.पी. सिंह के रूप में की गई। जिसके बाद सारे फर्जी नियुक्त पाकर पूरी सर्विस करने वाले डिप्टी एमआई के.पी. सिंह के सभी दस्तावेज कार्यवाही हेतु संचालनालय भोपाल भेज दिये गये है।

सीएमएचओं अनूपपुर डॉ. एससी राय का कहना है कि मामले की जानकारी है, संपूर्ण दस्तावेज भोपाल भेज दिये गये हैं।

इनपुट-हिन्दुस्थान समाचार/ राजेश शुक्ला

follow hindusthan samvad on :
error: Content is protected !!