नरसिंहपुर, 12 फरवरी। वन अधिकार अधिनियम के तहत पट्टा मिलने पर जिले की नरसिंहपुर तहसील की ग्राम पंचायत पांजरा के ग्राम थुवारीकला के श्री जालम पिता पंचम आदिवासी ने बताया कि अब हम बेदखली के डर से मुक्त हो गये हैं। पहले हमें हमेशा चिंता सताती थी और यह डर बना रहता था कि पता नहीं कब हमें उस जमीन से अलग कर दिया जाये, जहां हम कई सालों से काबिज हैं।

इस चिंता से मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने हमें आजादी दिलाई है। निश्चित ही अब हमारी उन्नति के दरवाजे खुलेंगे। अनुसूचित जनजाति वर्ग के हितग्राही श्री जालम आदिवासी को 2.007 हेक्टर का वनाधिकार प्रमाण पत्र सौंपा गया। जालम के परिवार में उनकी पत्नी गौराबाई और एक बेटा मनोज है। वनाधिकार प्रमाण पत्र मिल जाने से जालम का पूरा परिवार खुश है।

हिन्दुस्थान संवाद

error: Content is protected !!