जिला एवं पुलिस प्रशासन ने व्यवस्था का लिया जायजा
19 को कलश यात्रा, दोनों समय होगा भंडारा, बस स्टेंड से चलेगी दो बस नि:शुल्क

सिवनी, 17 फरवरी। पिछले दो दिनों से बदले हुये मौसम के बाद भी  न तो आयोजकों के उत्साह में कोई कमी आई है और न ही सनातन धर्मियों के। दो पीठ के शंकराचार्य जगतगुरू स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती जी महाराज का आगमन 18 फरवरी की शाम को उनकी जन्म स्थली ग्राम दिघोरी जिसे आपने गुरू रत्नेश्वर धाम का नाम दिया है, में होने जा रहा है। उनकी आगवानी की तैयारी आयोजकों के द्वारा की जा रही है। 19 फरवरी को प्रात: कलश यात्रा निकाली जायेगी, जिसमें महिलाओं की भागीदारी अधिक से अधिक रहने की अपील की गई है।


ज्ञातव्य है कि 19 साल बाद ग्राम दिघोरी में ज्योतिष एवं द्वारका शारदा पीठ के शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद सरस्वती जी महाराज अपने मुखारबिंद से श्रीमद् भागवत ज्ञान यज्ञ की गंगा प्रवाहित करेंगे। 19 साल पूर्व इसी स्थान पर विश्व के अद्वितीय स्फटिक शिवलिंग की स्थापना की गई थी। स्थापना के समय होने वाला कार्यक्रम 15 फरवरी से 22 फरवरी 2002 में आयोजित हुआ था। उन दिनों इस आयोजन के मुख्य कर्ताधर्ता त्रिविभागीय मंत्री स्व. हरवंश सिंह थे। इस कार्यक्रम में चारों पीठ के शंकराचार्य और देश भर के साधु-संतों का आगमन हुआ था।


इस कार्यक्रम के बाद गुरू रत्नेश्वर धाम दिघोरी में छोटे-बड़े आयोजन होते रहे, लेकिन स्वयं जगतगुरू शंकराचार्य स्वामी स्वरूपानंद जी महाराज ने पूरे सात दिन व्यासपीठ पर बैठकर श्रीमद् भागवत कथा का सनातनियों को श्रवण नहीं कराया था। यह अवसर लंबे समय बाद मिला है,जब महाराजश्री अपने श्रीमुख से सनातनधर्मियों को कलयुग में मोक्ष प्रदान करने वाली श्रीमद् भागवत कथा का श्रवण करायेंगे।
18 फरवरी को परमहंसी झोतेश्वर से आप गुरूधाम के लिये रवाना होंगे। अपनी जन्मस्थली गुरू रत्नेश्वर धाम पहुंचने के पूर्व आप आदेगाँव में चल रही एक भागवत कथा में पहुंचेंगे और यहाँ धर्मोपदेश देंगे। यहाँ से आप दिघोरी आने के पूर्व ग्राम बर्रा में रजनीश सिंह के निवास पहुंचेंगे और इस परिवार को अपना आशीर्वाद और संबल प्रदान करेंगे। उल्लेखनीय है कि हाल ही में स्व. हरवंश सिंह की धर्मपत्नी और पूर्व विधायक रजनीश सिंह की माता श्रीमती पवन बाई का निधन हुआ है।


महाराजश्री यहाँ से गुरू रत्नेश्वरधाम पहुंचेंगे, जहां आयोजकों ने आपके आगमन पर आगवानी की तैयारी की हुई है। श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ स्थल का आज जिला प्रशासन की ओर से एसडीएम सिवनी ने निरीक्षण किया। इसके बाद पुलिस की चाकचौबंद व्यवस्था और यातायात व्यवस्था के लिये स्वयं पुलिस अधीक्षक कुमार प्रतीक पहुंचे और उन्होंने पूरे क्षेत्र का निरीक्षण कर व्यवस्था का जायजा लिया एवं अपने अधीनस्थों को जिम्मेदारियां वितरित की। आयोजन स्थल में पहुंचने के लिये 19 फरवरी से बस स्टेंड सिवनी में दो बसें उपलब्ध रहेेंगी जो धर्मानुरागियों को वहां से लाना और ले जाना करेंगी। ये दोनों बसें नि:शुल्क उपलब्ध रहेंगी।
जिला कलेक्टर डॉ. राहुल हरिदास फटिंग जो कि पालिका के प्रशासक भी हैं, उन्होंने पालिका को धर्म स्थल पर हर संभव व्यवस्था बनाने के निर्देश दिये हैं। आयोजन समिति ने उपस्थित होने वाले आमजनों से अपील की है कि वे मास्क लगाकर आयें और अपने साथ सैनिटाइजर भी साथ रखें, ताकि स्वास्थ्य की दृष्टि से हम सुरक्षित रह सकें।
आयोजन समिति ने बताया कि श्रीमद् भागवत कथा ज्ञान यज्ञ स्थल पर दोनों समय धर्मप्रेमियों के लिये भंडारे की व्यवस्था की गई है। भंडारा प्रतिदिन प्रात: 11 बजे से दोप. 2 बजे तक एवं शाम को 7 बजे से रात्रि 10.30 बजे तक चलेगा।  प्रवचन का समय दोप. 2 बजे से शाम 6 बजे तक रहेगा। शाम को प्रवचन के बाद वृन्दावन से आने आ रही रासलीला के सदस्यों के द्वारा अपनी प्रस्तुति दी जायेगी, जो आकर्षण का केन्द्र रहेगी। आयोजकों ने इस धार्मिक कार्यक्रम में अपनी सहभागिता निभाने और उपस्थिति देने की अपील की है।

हिन्दुस्थान संवाद

error: Content is protected !!