प्रधानमंत्री मोदी ने समकक्ष शेख हसीना से की चर्चा, स्वास्थ्य और रेलवे को लेकर सहमति बनी

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को हैदराबाद हाउस में बांग्लादेशी समकक्ष शेख हसीना के साथ द्विपक्षीय बैठक की। प्रधानमंत्री मोदी ने बांग्लादेशी प्रधानमंत्री का स्वागत किया। वो राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के लगातार तीसरी बार सरकार बनाने के बाद भारत आने वाली पहली विदेशी नेता हैं।

दोनों नेताओं ने डिजिटल भागीदारी, हरित भागीदारी, नीली अर्थव्यवस्था, स्वास्थ्य और चिकित्सा तथा रेलवे संपर्क पर कई समझौता ज्ञापनों पर हस्ताक्षर किए। शनिवार की बैठक बहुत खास है, क्योंकि प्रधानमंत्री शेख हसीना हमारी तीसरी सरकार में पहली राजकीय अतिथि हैं। बांग्लादेश पड़ोसी पहले और एक्ट ईस्ट नीतियों के साथ-साथ सागर और इंडो-पैसिफिक विजन के संगम पर है। पिछले साल हमने लोगों के कल्याण के लिए कई महत्वपूर्ण पहल पूरी की हैं, पीएम मोदी ने समझौता ज्ञापनों के आदान-प्रदान के बाद कहा।

भारतीय प्रधानमंत्री ने कहा कि दोनों देशों में भारतीय रुपये में व्यापार शुरू हो गया है, साथ ही गंगा नदी पर दुनिया की सबसे लंबी नदी क्रूज, पहली सीमा पार मैत्री पाइपलाइन और भारतीय ग्रिड के माध्यम से नेपाल से बांग्लादेश को बिजली निर्यात जैसी अन्य उपलब्धियां भी हासिल हुई हैं। उन्होंने कहा, सिर्फ एक साल में इतने सारे क्षेत्रों में इतनी बड़ी पहल को लागू करना हमारे संबंधों की गति और पैमाने को दर्शाता है।

विदेश मंत्रालय के अनुसार दोनों नेता 2019 से दस बार एक-दूसरे से मिल चुके हैं। हसीना हिंद महासागर क्षेत्र (आईओआर) और भारतीय पड़ोस के सात शीर्ष नेताओं में शामिल थीं, जिन्होंने 9 जून को राष्ट्रपति भवन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनके मंत्रिपरिषद के शपथ ग्रहण समारोह में भाग लिया था। उनकी यात्रा पिछले कुछ वर्षों में भारत और बांग्लादेश के बीच द्विपक्षीय संबंधों में तेजी के बीच हो रही है।

हसीना हैदराबाद हाउस में प्रधानमंत्री मोदी द्वारा उनके सम्मान में आयोजित भोज में भी शामिल होंगी। बांग्लादेशी प्रधानमंत्री बाद में राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू और उपराष्ट्रपति जगदीप धनखड़ से भी मुलाकात करेंगी। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शुक्रवार शाम को हसीना से मुलाकात की। उन्होंने बैठक के बाद कहा, भारत की उनकी राजकीय यात्रा हमारे घनिष्ठ और स्थायी संबंधों को रेखांकित करती है। हमारी विशेष साझेदारी के आगे विकास पर उनके मार्गदर्शन की सराहना करता हूं। भारत ने अपनी पड़ोसी प्रथम नीति के तहत बांग्लादेश को हमेशा एक महत्वपूर्ण साझेदार माना है तथा सुरक्षा, व्यापार, वाणिज्य, ऊर्जा, सम्पर्क, विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी, रक्षा तथा समुद्री मामलों आदि क्षेत्रों में सहयोग बढ़ाया है।

इससे पहले प्रधानमंत्री मोदी ने राष्ट्रीय राजधानी में राष्ट्रपति आवास पर हसीना का स्वागत किया और उनके आगमन पर उनका औपचारिक स्वागत किया गया। उन्होंने और प्रधानमंत्री मोदी ने कार्यक्रम स्थल पर दोनों देशों के मंत्रियों और प्रतिनिधियों से मुलाकात की। जिसके बाद वह महात्मा गांधी को श्रद्धांजलि देने के लिए राजघाट रवाना हुईं। उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी की मौजूदगी में भारतीय पक्ष के साथ प्रतिनिधिमंडल स्तर की वार्ता भी की।

follow hindusthan samvad on :